सोवियत संघ के आखिरी राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचेव का निधन, शीत युद्ध को किया था समाप्त लेकिन फिर भी मिली थी बदनामी

Mikhail Gorbachev
Google Free License
रेनू तिवारी । Aug 31, 2022 8:40AM
सोवियत संघ के पूर्व राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बावेच का निधन हो गया। वह 91 वर्ष के थे। रूसी समाचार एजेंसी ‘तास’, ‘आरआईए नोवोस्ती’ और ‘इंटरफेक्स’ ने ‘सेंट्रल क्लीनिकल हॉस्पिटल’ के हवाले से गोर्बावेच के निधन की जानकारी दी। गोर्बावेच के कार्यालय ने पहले बताया था कि अस्पताल में उनका उपचार किया जा रहा है।

मॉस्को। दूसरे विश्व युद्ध के बाद पूरी दुनिया दो गुटों में बट गयी थी और सोवियत संध और अमेरिका के बीच शीत युद्ध शुरू हो गया था। इस युद्ध में दोनों देशों की सेनाओं के बीच हथियार तो नहीं चले लेकिन दोनों देशों ने एक दूसरे को कम दिखाने के लिए हथियारों की होड़ लगा दी। यह 1945 से 1991 तक विश्व में यहीं स्थिति रही। फिर आखरिकार 1991 में सोवियत संघ का विघटन हुआ और शीत युद्ध समाप्त हुआ। शीत युद्ध को समाप्त करने वाले थे  मिखाइल गोर्बावेच। गोर्बावेच ने ही दशकों के पूर्व-पश्चिम परमाणु टकराव का अंत किया। सोवियत संघ के पूर्व राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बावेच का निधन हो गया। वह 91 वर्ष के थे। रूसी समाचार एजेंसी ‘तास’, ‘आरआईए नोवोस्ती’ और ‘इंटरफेक्स’ ने ‘सेंट्रल क्लीनिकल हॉस्पिटल’ के हवाले से गोर्बावेच के निधन की जानकारी दी। गोर्बावेच के कार्यालय ने पहले बताया था कि अस्पताल में उनका उपचार किया जा रहा है। मिखाइल गोर्बाचेव, जिन्होंने बिना रक्तपात के शीत युद्ध को समाप्त किया, लेकिन सोवियत संघ के पतन को रोकने में विफल रहे।

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने गोर्बाचेव के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया और सुबह उनके परिवार को एक आधिकारिक टेलीग्राम भेजा। क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने एक बयान में कहा कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने गोर्बाचेव के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया और सुबह उनके परिवार को एक आधिकारिक टेलीग्राम भेजेंगे।

मिखाइल गोर्बाचेव के बारे में आपको जो कुछ पता होना चाहिए

1) गोर्बाचेव मार्च 1985 में सोवियत नेता बने और उन्होंने 25 दिसंबर, 1991 को इस्तीफा दे दिया। उन्होंने सोवियत गोलमाल सहित कई बदलाव किए, जो परिवर्तन के समान नहीं थे।

2) 1992 के एक साक्षात्कार में, गोर्बाचेव ने पद छोड़ने के बाद द एपी को बताया, "मैं खुद को एक ऐसे व्यक्ति के रूप में देखता हूं जिसने देश और यूरोप और दुनिया के लिए आवश्यक सुधार शुरू किए। मुझसे अक्सर पूछा जाता है, क्या मैंने यह सब शुरू किया होगा। फिर से अगर मुझे इसे दोहराना पड़ा? हाँ, वास्तव में, अधिक दृढ़ता और दृढ़ संकल्प के साथ।"

3) अंतिम सोवियत नेता ने शीत युद्ध को समाप्त करने में उनकी भूमिका के लिए 1990 का उपन्यास शांति पुरस्कार भी जीता।  हालांकि सोवियत संघ के 1991 के पतन के लिए रूसियों ने उन्हें दोषी ठहराया।

4) 1996 में राष्ट्रपति पद के लिए उनका दौड़ एक राष्ट्रीय मजाक था, और उन्हें 1% से भी कम वोट मिले।

5) उन्होंने राजनीतिक कैदियों को भी मुक्त किया, खुली बहस और बहु-उम्मीदवार चुनावों की अनुमति दी, अपने देशवासियों को यात्रा करने की स्वतंत्रता दी, धार्मिक उत्पीड़न को रोका, परमाणु शस्त्रागार को कम किया, पश्चिम के साथ घनिष्ठ संबंध स्थापित किए, और पूर्वी में कम्युनिस्ट शासन के पतन का विरोध नहीं किया। 

6) 1997 में, उन्होंने अपने चैरिटेबल फाउंडेशन के लिए पैसे कमाने के लिए पिज़्ज़ा हट के लिए एक टीवी विज्ञापन बनाने का सहारा लिया।

7) फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने उन्हें "शांति का व्यक्ति" कहा, जिनकी पसंद ने रूसियों के लिए स्वतंत्रता का मार्ग खोल दिया। यूरोप में शांति के लिए उनकी प्रतिबद्धता ने हमारे साझा इतिहास को बदल दिया।

8) स्वतंत्र प्रेस के समर्थक के रूप में, उन्होंने रूस के प्रमुख स्वतंत्र समाचार पत्र नोवाया गजेटा की मदद की, जिसकी स्थापना 1993 में हुई थी, और अपनी नोबेल जीत का कुछ हिस्सा इसके पहले कंप्यूटर खरीदने में मदद करने के लिए दान किया। 

अन्य न्यूज़