पाकिस्तान के गृह मंत्री ने प्रधानमंत्री खान को बजट के बाद चुनाव कराने की सलाह दी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 26, 2022   22:24
पाकिस्तान के गृह मंत्री ने प्रधानमंत्री खान को बजट के बाद चुनाव कराने की सलाह दी

राशिद ने बृहस्पतिवार को कहा था कि प्रधानमंत्री खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के चलते मौजूदा राजनीतिक अनिश्चितता को खत्म करने के लिए देश में जल्द चुनाव कराए जा सकते हैं। अगला आम चुनाव 2023 में होना है।

 इस्लामाबाद| पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख राशिद ने शनिवार को कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री इमरान खान को बजट पेश करने के बाद चुनाव कराने की सलाह दी है। उन्होंने दावा किया कि इमरान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किये जाने के बाद उनकी लोकप्रियता बढ़ी है।

समाचार पत्र ‘डॉन’ की खबर के अनुसार हालांकि राशिद ने कहा कि वित्त वर्ष 2022-23 के लिए संघीय बजट पेश करने के बाद जल्द चुनाव का विचार उनकी व्यक्तिगत ‘‘राय’’ है और इसे सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के रुख के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

राशिद ने इस्लामाबाद में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री खान को संघीय बजट पेश करने के बाद चुनाव कराने की सलाह दी है, जो प्रत्येक वर्ष 30 जून को वित्तीय वर्ष की समाप्ति से कुछ सप्ताह पहले प्रस्तुत किया जाता है। एक सप्ताह में यह दूसरी बार है जब राशिद ने चल रहे राजनीतिक संकट को खत्म करने के लिए मध्यावधि चुनाव की वकालत की है।

राशिद ने बृहस्पतिवार को कहा था कि प्रधानमंत्री खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के चलते मौजूदा राजनीतिक अनिश्चितता को खत्म करने के लिए देश में जल्द चुनाव कराए जा सकते हैं। अगला आम चुनाव 2023 में होना है। शनिवार को यहां पत्रकारों से बात करते हुए राशिद ने कहा कि प्रधानमंत्री खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर तीन या चार अप्रैल को मतदान हो सकता है। उन्होंने कहा कि अविश्वास प्रस्ताव 28 मार्च को नेशनल असेंबली में पेश किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘मतदान प्रस्ताव पेश होने के तीन से सात दिनों के बीच होता है।’’

राशिद ने प्रधानमंत्री खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव प्रस्तुत करने के लिए विपक्ष को ‘‘मूर्ख’’ करार दिया और कहा कि इस कदम से प्रधानमंत्री की लोकप्रियता बढ़ी है और ‘‘जल्द चुनाव कराने के लिए यह सही समय है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।