पाकिस्तान ने जयपुर में कैदी की हत्या पर भारत से जवाब मांगा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 21, 2019   16:35
पाकिस्तान ने जयपुर में कैदी की हत्या पर भारत से जवाब मांगा

जयपुर पुलिस के मुताबिक, पचास साल के पाकिस्तानी नागरिक की पहचान शकरूल्ला के तौर पर हुई है। वह जयपुर के केंद्रीय कारागार में बंद था।

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने राजस्थान की राजधानी जयपुर में भारतीय कैदियों द्वारा कथित रूप से एक पाकिस्तानी कैदी की हत्या किए जाने की रिपोर्टों पर बुधवार को चिंता जताते हुए भारत से जवाब मांगा है। जयपुर पुलिस के मुताबिक, पचास साल के पाकिस्तानी नागरिक की पहचान शकरूल्ला के तौर पर हुई है। वह जयपुर के केंद्रीय कारागार में बंद था। बुधवार को कैदियों के बीच झगड़े के दौरान उसकी मौत हो गई थी। उसका ताल्लुक आतंकवादी संगठन लशकर-ए-तैयबा से है।

इसे भी पढ़ें- ISIS का दामन थामने वाली महिला की अमेरिका में दोबारा 'NO ENTRY'

उन्होंने बताया कि कैदियों की लड़ाई टीवी की आवाज को लेकर हुई। इसके बाद कैदी की बड़ा सा पत्थर मारकर हत्या कर दी गई। वह पाकिस्तान में पंजाब के सियालकोट का रहने वाला था। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के मुताबिक, पुलवामा घटना की प्रतिक्रिया में भारतीय कैदियों ने शकरूल्ला को पीट-पीट कर मार डाला।

विदेश वि‍भाग ने कहा, ‘‘पाकिस्तानी कैदी के बर्बर कत्ल के बाबत मीडिया में आई खबरों पर पाकिस्तान बहुत फिक्रमंद है।’’ उसने कहा कि नयी दिल्ली में स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग ने भारतीय अधिकारियों के समक्ष यह मुद्दा उठाया और उनसे तत्काल खबर का सत्यापन करने की गुजारिश की। उसने कहा कि उनके जवाब का इंतजार है। पाकिस्तान ने भारत सरकार से भारतीय जेलों में बंद पाकिस्तानी कैदियों और भारत की यात्रा करने वाले लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है।

इसे भी पढ़ें- नवाज शरीफ की सजा निलंबित करने पर कोर्ट का फैसला सुरक्षित

इस बीच राजस्थान के पुलिस महानिदेशक कपिल गर्ग ने कहा कि न्यायिक मजिस्ट्रेट और पुलिस मामले की अलग अलग जांच करेंगे। शकरूल्ला 2011 से जेल की विशेष कोठरी में बंद था और वह गैर कानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत उम्र कैद की सजा काट रहा था। इससे पहले, उसे और सात अन्य को पंजाब की एक जेल में रखा गया था। उन पर युवाओं को कट्टर बनाने का आरोप था। वर्ष 2017 में, लश्कर ए तैयबा के सदस्यको उम्र कैद की सजा सुनाई गई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।