21वीं सदी के हिटलर हैं व्लादिमीर पुतिन, यूक्रेन के विदेश मंत्री बोले- रूस से व्यापारिक रिश्ते हों खत्म

21वीं सदी के हिटलर हैं व्लादिमीर पुतिन, यूक्रेन के विदेश मंत्री बोले- रूस से व्यापारिक रिश्ते हों खत्म
प्रतिरूप फोटो

यूक्रेन के विदेश मंत्री ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को हिटलर बताया है। उन्होंने कहा कि व्लादिमीर पुतिन 21वीं सदी के हिटलर हैं। ऐसे में रूस के साथ व्यापारिक रिश्ते खत्म होने चाहिए। आपको बता दें कि दोनों देश शत्रुता को समाप्त करने के उद्देश्य से युद्ध के 4 दिन बाद एक टेबल में एकसाथ वार्ता कर रहे हैं।

मॉस्को। रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध छिड़ा हुआ है। ऐसे में इस युद्ध को समाप्त करने के लिए रूस और यूक्रेन बेलारूस में एक बैठक कर रहे हैं। इसी बीच बड़ी खबर सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को हिटलर बताया है। उन्होंने कहा कि व्लादिमीर पुतिन 21वीं सदी के हिटलर हैं। ऐसे में रूस के साथ व्यापारिक रिश्ते खत्म होने चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: Russia-Ukraine crisis: ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने यूक्रेन के रिश्तेदारों को ब्रिटेन का वीजा देने की पेशकश की 

बेलारूस बॉर्डर पर हो रही वार्ता

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बेलारूस बॉर्डर पर रूस और यूक्रेन के प्रतिनिधि उच्च स्तरीय वार्ता कर रहे हैं। आपको बता दें कि दोनों देश शत्रुता को समाप्त करने के उद्देश्य से युद्ध के 4 दिन बाद एक टेबल में एकसाथ वार्ता कर रहे हैं। कुछ वक्त पहले बेलारूस से विदेश मंत्रालय ने बताया था कि रूस-यूक्रेन की वार्ता करवाने के लिए मंच को तैयार किया जा चुका है।

क्या चाहता है यूक्रेन

इस बैठक से पहले यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर ज़ेलेंस्की कार्यालय ने कहा कि वार्ता के लिए यूक्रेन का लक्ष्य तत्काल युद्धविराम और यूक्रेन से रूसी सेना की वापसी है। कार्यालय ने बताया कि वह रूस से तत्काल संघर्षविराम की मांग करेगा। तत्काल यह स्पष्ट नहीं है कि यूक्रेन में अपने युद्ध से या वार्ता से रूस अंततः क्या चाहता है। 

इसे भी पढ़ें: प्रतिबंध क्या हैं, क्या ये कारगर होते हैं, क्या ये रूस को यूक्रेन पर हमला करने से रोक सकते हैं? 

अभी तक 352 लोगों की हुई मौत

यूक्रेन के गृह मंत्रालय ने बताया कि रूस के हमले में अभी तक 14 बच्चों समेत यूक्रेन के 352 नागरिकों की मौत हो चुकी है और 116 बच्चों समेत 1,684 लोग जख्मी हुए हैं। हालांकि मंत्रालय ने यह नहीं बताया कि यूक्रेन के सशस्त्र बलों के कितने जवान हताहत हुए हैं। रूस ने दावा किया है कि उसके बल केवल यूक्रेन के सैन्य प्रतिष्ठानों को निशाना बना रहे हैं और यूक्रेन के आम नागरिकों को कोई खतरा नहीं है।