एसजीपीसी शिष्टमंडल ने पाकिस्तानी समकक्ष के साथ वीजा मसले पर चर्चा की

SGPC delegation
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
एसजीपीसी अमृतसर के प्रधान और अधिवक्ता हरजिंदर सिंह धामी के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल बुधवार को यहां पहुंचा और लाहौर स्थित ईटीबीपी मुख्यालय में शिष्टमंडल के साथ ईटीपीबी और पीएसजीपीसी की संयुक्त बैठक हुयी।

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी-अमृतसर) का पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल बाघा सीमा के रास्ते लाहौर पहुंचा और अपने पाक समकक्ष पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (पीएसजीपीसी) तथा इवैकुई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड (ईटीपीबी) के अधिकारियों के साथ बैठक कर वीजा नीति में ढील देने पर चर्चा की ताकि अधिक से अधिक भारतीय सिख पाकिस्तान में अपने पवित्र स्थानों की यात्रा कर सकें।

एसजीपीसी अमृतसर के प्रधान और अधिवक्ता हरजिंदर सिंह धामी के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल बुधवार को यहां पहुंचा और लाहौर स्थित ईटीबीपी मुख्यालय में शिष्टमंडल के साथ ईटीपीबी और पीएसजीपीसी की संयुक्त बैठक हुयी। बैठक में शामिल होने वाले एक पदाधिकारी ने पीटीआई-को बताया कि धामी ने वीजा प्रतिबंधों में ढील देने पर जोर दिया और कहा कि पाकिस्तान के लिये वीजा लेने में बड़े पैमाने पर समय की बर्बादी होती है।

धामी के हवाले से पदाधिकारी ने कहा, ‘‘हम चाहते हैं कि अधिक से अधिक संख्या में भारतीय सिख पाकिस्तान आ कर अपने पवित्र स्थलों पर अरदास कर सकें और इसके लिये ईटीपीबी को अपनी भूमिका अदा करनी होगी।’’ सिख प्रतिनिधिमंडल का यह दौरा ऐसे समय में हो रहा है जब भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय संबंध पाकिस्तान से सीमा पार आतंकवाद और कश्मीरजैसे मुद्दों पर तनावपूर्ण हैं।

ईटीबीपी पवक्ता आमिर हाशमी ने पीटीआई-को बताया कि बोर्ड प्रमुख हबीबुर रहमान गिलानी ने शिष्टमंडल को आश्वस्त किया कि वीजा मामलों को संघीय सरकार के समक्ष उठाया जायेगा। हाशमी ने कहा कि गिलानी ने शिष्टमंडल से यह भी कहा कि धार्मिक पर्यटन के लिये बोर्ड ने एक एप की शुरूआत की है। गिलानी ने कहा, ‘‘इससे उन सभी लोगों को मदद मिलेगी जो धार्मिक पर्यटन के उद्देश्य से पाकिस्तान आना चाहते हैं, खास तौर से पाकिस्तान आने वाले सिखों को।’’

उन्होने शिष्टमंडल से यह भी सूचित किया कि देश के विभिन्न गुरुद्वारों के जीर्णोंद्धार के लिये बोर्ड ने 22-23 के अपने बजट में पर्याप्त राशि आवंटित की है। प्रवक्ता ने कहा कि दोनों पक्ष यहां गुरुद्वारों के रख-रखाव को लेकर मिलने के लिए राजी हो गए हैं। हाशमी ने बताया कि धामी बुधवार को ही भारत लौट गये लेकिन शेष चार सदस्य यहां आठ अक्टूबर तक रूकेंगे और करतारपुर साहिब तथा ननकाना साहिब जायेंगे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़