मिलिए असली विक्की डोनर से, बन चुके है 129 बच्चों के बाप; यह है चाहत

मिलिए असली विक्की डोनर से, बन चुके है 129 बच्चों के बाप; यह है चाहत

डेलीमेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, स्पर्म डोनेट को लेकर हेल्थ एक्‍सपर्ट ने उन्हें चेताया है क्योंकि वह अपना स्पर्म किसी लाइसेंस क्लिनिक में नहीं बल्कि फेसबुक के माध्यम से दे रहे है जिससे कई परिवार खुश हुए है। जोंस ने स्पर्म डोनेट को लेकर कहा कि, वह दुनिया में सबसे ज्यादा बच्चे पैदा करने वाले शख्स हैं।

आपने बॉलीवुड फिल्म विक्की डॉनर तो देखी होगी जिसमें एक्टर आयुष्मान खुराना स्पर्म डोनर का रोल निभा रहे थे उसी के तर्ज पर एक टीचर ने स्पर्म डोनेट किया है और 129 बच्चों के जैविक पिता बन गए है। फिलहाल  9 और बच्चे पैदा होने वाले है जो अभी गर्भ में हैं। बता दें कि, यह एक रिटायर्ड टीचर है और इनका नाम क्‍लाइवेस जोंस है। यह ब्रिटेन के डर्बी में रहते हैं और 58 साल की उम्र में उन्होंने स्पर्म डोनेट करने का फैसला किया। वह अपना स्पर्म फ्री में डोनेट करते हैं। डेलीमेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, स्पर्म डोनेट को लेकर हेल्थ एक्‍सपर्ट ने उन्हें चेताया है क्योंकि वह अपना स्पर्म किसी लाइसेंस क्लिनिक में नहीं बल्कि फेसबुक के माध्यम से दे रहे है जिससे कई परिवार खुश हुए है। जोंस ने स्पर्म डोनेट को लेकर कहा कि, वह दुनिया में सबसे ज्यादा बच्चे पैदा करने वाले शख्स हैं। जोंस यह आने वाले कई सालों तक जारी रखेंगे जिससे बच्चों की संख्या शायद 150 हो जाए। उन्होंने कहा कि, वह क्लिनिक के बारे में जानते है जहां स्पर्म डोनेट नहीं किया जाता है बल्कि इनकी बिक्री की जाती है। जोंस ने बताया कि,उन्हें मां की तरफ से बच्चों की कई तस्वीरें मिलती है और वह उस दौरान काफी खुश होती है जिससे मुझे खुशी मिलती है। 

इसे भी पढ़ें: बीजिंग शीतकालीन ओलंपिक से पहले चीन पर मंडराया कोरोना का कहर, ओपनिंग सेरेमनी हुई कैंसिल

स्‍पर्म डोनर क्‍लाइवेस जोंस ने बताया कि, कई लोग है जिनक बच्चे पैदा नहीं हो पाते हैं और इस कारण माता-पिता को कई पीड़ा होती है। जोंस ने फेसबुक के जरिए लोगों से संपर्क किया और उन सभी से मिले जो स्पर्म की डिमांड करते है। बता दें कि, वह सालों से स्पर्म डोनेट करते आ रहे है। बता दें कि, उन्हें ह्यूमन फर्टिलाइजेशन एंड एम्ब्रियोलॉजी अथॉरिटी की ओर से चेतावनी मिली। उनके मुताबिक, हम किसी को ऐसा करने से रोक नहीं सकते है क्योंकि वह खुद की मर्जी से ऐसा कर रहे हैं। लोगों को जागरूक करना भी जरूरी है कि वह इसके लिए सही जगह पर जाएं और इसलिए  डोनर्स और मरीज को लाइसेंस्ड क्‍लीनिक में आने के लिए कहा जाता हैं।






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...