रूस और यूक्रेन का युद्ध 9 मई को खत्म हो जाएगा! राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने क्यों चुना यह दिन?

रूस और यूक्रेन का युद्ध 9 मई को खत्म हो जाएगा! राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने क्यों चुना यह दिन?

यूक्रेन के सैन्य अखबार द कीव इंडिपेंडेंट ने शुक्रवार को एक सैन्य सूत्र का हवाला देते हुए दावा किया गया है कि, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन 9 मई को यूक्रेन में अपना अभियान समाप्त कर सकते हैं।खबरों के मुताबिक, पुतिन इस बार स्टालिन के नक्शेकदम पर चलेंगे।रूसी सेना ने 24 फरवरी को यूक्रेन पर हमला किया था।

रूस-यूक्रेन के बीच युद्ध पिछले 31 दिन से जारी है। इसी बीच रूस ने दावा किया है कि, यूक्रेन में सैन्य अभियान का पहला चरण समाप्त हो गया है। युद्ध के 30वें दिन यानि की शुक्रवार को रूसी सेना ने कहा कि, उसने ऑपरेशन के पहले चरण में अपने लक्ष्य को हासिल कर लिया है। शुक्रवार को रूसी सेना के पहली डिप्टी चीफ ऑफ स्टाफ कर्नल जनरल सर्गेई रुडस्की ने एक महीने की युद्ध की स्थिति को सैन्य अभियान के पहले चरण की शुरूआत का रूप दिया और कहा कि, हम अब मुख्य लक्ष्य हासिल करने के लिए पूर्वी यूक्रेन पर ध्यान केंद्रित कर रही हैं। 

इसे भी पढ़ें: नहीं सुधर रहा नेपाल! कालापानी को फिर से बताया अपने क्षेत्र का हिस्सा, क्या तीसरे देश की मांगी जाएगी मदद

यूक्रेन के सैन्य अखबार द कीव इंडिपेंडेंट ने शुक्रवार को एक सैन्य सूत्र का हवाला देते हुए दावा किया गया है कि, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन 9 मई को यूक्रेन में अपना अभियान समाप्त कर सकते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि, द्वितीय विश्व युद्ध में नाजी जर्मनी की अंतिम हार के बाद, अविभाजित सोवियत संघ के तत्कालीन राष्ट्रपति जोसेफ स्टालिन ने 1945 में 9 मई की तारीख को आधिकारिक तौर पर सैन्य अभियान को समाप्त कर दिया था। 9 मई अभी भी पूरे रूस में मनाया जाता है।

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने रूस से फिर शांति वार्ता की अपील की

खबरों के मुताबिक, पुतिन इस बार स्टालिन के नक्शेकदम पर चलेंगे।रूसी सेना ने 24 फरवरी को यूक्रेन पर हमला किया था। तीन दिन पहले, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पूर्वी यूक्रेन के डोनेट्स्क और लुहान्स्क क्षेत्रों को स्वतंत्र राज्यों के रूप में मान्यता दी थी। बता दें कि, राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की के प्रति वफादार यूक्रेनी सेना और स्वयंसेवी बल रूसी सेना और स्थानीय रूसी भाषी मिलिशिया के खिलाफ डोंबिस में एक घातक लड़ाई लड़ रहे हैं। रूसी सैन्य हताहतों की सूची हर दिन बढ़ रही है।