जेरूसलम: फिलिस्तीनियों के खिलाफ शहरी नियोजन को बनाया जा रहा है हथियार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2022   18:56
जेरूसलम: फिलिस्तीनियों के खिलाफ शहरी नियोजन को बनाया जा रहा है हथियार

जेरूसलम में फलीस्तीनियों के खिलाफ शहरी नियोजन को हथियार बनाया जा रहा है। यह इस्राइली और फलस्तीनी क्षेत्रों को अलग करती है। बस्ती में दो विशिष्ट वर्ग हैं: उत्तर में अमीर फिलिस्तीनियों का निवास है, जबकि दक्षिणी भाग में 1948 से सैकड़ों फिलिस्तीनी शरणार्थियों की गरीब आबादी रहती है।

लंदन। मेरे बगीचे में एक जैतून पूरी दुनिया की किसी भी चीज से अच्छा है। ये वो दुखभरे अल्फाज हैं, जो महमूद सालहिया की जुबान से उस वक्त निकले, जब शेख जर्राह में उनके घर को हाल ही में इजरायली सेना ने ध्वस्त किया। शेख जर्राह करीब 3000 फलस्तीनियों की बस्ती है, जो रोड 1 के पूर्वी हिस्से में है, जो येरूशलम में उत्तर से दक्षिण की ओर गुजरती है। यह इस्राइली और फलस्तीनी क्षेत्रों को अलग करती है। बस्ती में दो विशिष्ट वर्ग हैं: उत्तर में अमीर फिलिस्तीनियों का निवास है, जबकि दक्षिणी भाग में 1948 से सैकड़ों फिलिस्तीनी शरणार्थियों की गरीब आबादी रहती है। साल्हिया परिवार का घर शेख जर्राह के दक्षिणी क्षेत्र में एक सार्वजनिक भवन के निर्माण के लिए 1980 के दशक में अधिकृत एक पुरानी शहरी योजना द्वारा निर्दिष्ट भूमि पर है। लेकिन घर का कुछ हिस्सा पहले से ही मौजूद था, कुछ अन्य संरचनाओं के साथ, जब योजना तैयार की जा रही थी।

इसे भी पढ़ें: कोरोना के नए वेरिएंट Neocov से दहशत, वैज्ञानिकों का दावा हर 3 मरीज में से 1 की होगी मौत, क्या ये लाएगा चौथी लहर?

वास्तव में, भूखंड पर घर और अन्य इमारतें 1930 के दशक से येरूशलेम के नक्शे पर दिखाई दे रही हैं। महत्वपूर्ण रूप से, येरूसलम नगर पालिका के अनुसार, 1967 से पहले पूर्वी यरुशलम में बने फिलिस्तीनी घरों को कानूनी माना जाता है और इसलिए उन्हें ध्वस्त नहीं किया जा सकता है। लेकिन साल्हिया के भूखंड को सार्वजनिक उपयोग के लिए चिन्हित करना 1967 के बाद से पूर्वी येरूशलम में अपनाई जा रही इजरायली योजना का हिस्सा है। इज़राइली अधिकारियों ने तर्क दिया कि इलाके के निवासियों के लिए स्कूल बनाने की खास जरूरत को देखते हुए साल्हिया संपत्ति को जब्त कर लिया गया था। लेकिन इस योजना को बनाते समय परिवार या समुदाय के साथ कोई परामर्श नहीं किया गया था।

विध्वंस नियंत्रण का औजार बताया जाता है कि इस सर्दी में अब तक की सबसे सर्द रातों में से एक के तड़के पुलिस उस मकान पर पहुंची और घर पर बुलडोजर लगाने से पहले सालहिया परिवार के 15 सदस्यों को जबरन हटा दिया। उन्होंने महमूद सालहिया और उनके परिवार के पांच सदस्यों के साथ-साथ उनके कुछ समर्थकों, कुछ फलिस्तीनी और इज़राइली कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया। यह दर्दनाक घटना फिलिस्तीनियों को उनके घरों से विस्थापित करने के चल रहे प्रयास का हिस्सा है - न केवल शेख जर्राह में बल्कि पुराने शहर के बाहरी इलाके सिलवान जैसी अन्य बस्तियों में भी, जो वहां के यहूदी निवासियों और स्थानीय फलस्तीनी समुदाय के बीच पुरातत्व, पर्यटन विकास और आवास के मुद्दों पर संघर्ष का विषय है। मकानों को गिराना एक रोजमर्रा की घटना बन गई है। 2006 और नवंबर 2021 के बीच बी टीसलेम (अधिकृत क्षेत्रों में मानवाधिकारों के लिए इजरायली सूचना केंद्र) की एक रिपोर्ट के अनुसार, इजरायली अधिकारियों ने पूर्वी येरुशलम में कम से कम 1,176 फिलिस्तीनी आवास इकाइयों को ध्वस्त कर दिया। 1,996 बच्चों सहित कम से कम 3,769 लोगों ने अपना घर खो दिया। आवास विध्वंस शहर के ‘‘जनसांख्यिकीय संतुलन’’ को काबू में रखने के इज़राइल प्रयास का हिस्सा है।

वह येरूशलेम के नगरपालिका क्षेत्र के भीतर यहूदी बहुमत को 70:30 के अनुपात में वापस लाना चाहता है जो 1967 से इजरायल की नीति का हिस्सा है। उभरती शहरी भू-राजनीति साल्हिया परिवार के मामले को जून 1967 से यरुशलम में हो रही राजनीतिक प्रक्रियाओं और शहर को इज़राइल की एकीकृत राजधानी घोषित किए जाने के व्यापक संदर्भ में समझा जाना चाहिए। कानूनी तरीकों से राज्य द्वारा फलस्तीनी भूमि का अधिग्रहण पूर्वी येरुशलम के उपनिवेशीकरण की योजना का हिस्सा है। 1967 के बाद से, इज़राइल ने फलस्तीनी भूमि के एक-तिहाई हिस्से पर कब्जा कर लिया है, जिसे येरूशलेम की नगरपालिका की नई सीमाओं से जोड़ा गया था - 24.5 वर्ग किलोमीटर - इसका अधिकांश निजी तौर पर फिलिस्तीनियों के स्वामित्व में था। लगभग 11 बस्तियां केवल यहूदी निवासियों के लिए बनाई गई हैं। अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत, इन कालोनियों की स्थिति पूरे वेस्ट बैंक में इजरायल की अवैध बस्तियों के समान है।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान में कोरोना का कहर, एक दिन में आए 8183 मामले

एक पूरक कदम के रूप में, मास्टरप्लान की एक श्रृंखला तैयार की गई जिसने निर्माण अधिकारों को सीमित करके और अधिकांश फलिस्तीनी भूमि को आवास निर्माण के लिए अयोग्य के रूप में परिभाषित करके फलिस्तीनी बस्तियों के विकास को प्रभावी ढंग से सीमित कर दिया। 21वीं सदी की शुरुआत में अलगाव अवरोध के निर्माण के साथ येरूशलेम में एक अधिक कट्टरपंथी नीति की तरफ बदलाव देखा गया। इससे इज़राइल ने अधिकृत क्षेत्रों के 160 वर्ग किलोमीटर को अपने साथ जोड़ लिया। अवरोध का मार्ग चारदीवारी वाले शहर येरुशलम और फ़लस्तीनी भीतरी इलाकों के बीच एक स्पष्ट विभाजन बनाता है। ठोस बाधा जानबूझकर फ़लस्तीनी बस्ती के कार्यात्मक एकीकरण को बाधित करने के लिए बनाई गई है जो उन्हें वेस्ट बैंक में उनके भीतरी इलाकों से अलग करती है। पृथक्करण अवरोध के निर्माण ने येरुशलम महानगर में अधिकांश क्षेत्र और संसाधनों को यहूदी नियंत्रण में रखा है। फ़लस्तीनी लोग विभाजित बस्तियों तक सीमित हो गए हैं, जहां न तो संप्रभुता है, न आंदोलन की स्वतंत्रता, न प्राकृतिक संसाधनों और न ही निकटवर्ती क्षेत्रों पर नियंत्रण। सूक्ष्म औपनिवेशीकरण शेख जर्राह में हाल की घटनाएं स्पष्ट रूप से येरुशलम के उपनिवेशीकरण के वर्तमान चरण को चिह्नित करती हैं। यह फलस्तीनी क्षेत्र का एक सूक्ष्म पैमाने पर विनियोग है जिसके साथ शहर में रहने वाले फलस्तीनियों की बेदखली और विस्थापन होता है।

हैम याकोबी, विकास योजना के प्रोफेसर, यूसीएल और इरिट काट्ज, वास्तुकला और शहरी अध्ययन में सहायक प्रोफेसर, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...