पाकिस्तान में कंगाली फुल, बत्ती गुल के बीच जानें जब भारत में भी हुआ था ब्लैकआउट, अंधेरे में डूब गए थे 40 करोड़ लोग

india blackout
Creative Common
अभिनय आकाश । Jan 24, 2023 6:09PM
30 और 31 जुलाई 2012 को भारत में बड़े पैमाने पर बिजली कटौती हुई, जिसे मानव जाति के इतिहास में सबसे खराब बिजली संकट कहा जा सकता है। दो आउटेज में से पहले ने लगभग 350 मिलियन लोगों को प्रभावित किया।

आर्थिक बदहाली से जूझ रहे पाकिस्तान की बिजली गुल हो गई है। इस्लामाबाद, लाहौर और कराची जैसे बड़े शहर अंधकार में नजर आए। पाकिस्तानी अखबार डॉन के अनुसार ब्लूचिस्तान के गुड्डू से क्वेटा के बीच दो सप्लई लाइन में सुबह गड़बड़ी मिली, जिसके बाद देशभर में ग्रिड फेल हो गया। पाकिस्तान में बत्ती गुल होने की सोशल मीडिया पर भी चर्चा हुई और खूब मीम भी शेयर किए गए। पाकिस्तानियों ने अपने हुक्मरानों को जमकर कोसा। #ElectricityShutDown और #Poweroutage टॉप ट्रेंड पर रहा। इसके साथ ही ये भी चर्चा चल पड़ी कि क्या पाकिस्तान जैसा बिजली संकट भारत में भी हो सकता है? 

इसे भी पढ़ें: भस्मासुर बना पाकिस्तान: भारत को बस इसे खुद को नष्ट करने के लिए उत्साहित करने की जरूरत

पाकिस्तान में क्यों छाया अंधेरा 

पाकिस्तान के ऊर्जा मंत्री खुर्रम दस्तगीर ने कहा है कि सर्दियों में बिजली की मांग कम हो जाती है। ऐसे में आर्थिक उपाय के रूप में हम रात में पावर जेनरेशन यूनिट को अस्थायी रूप से बंद कर देते हैं। सोमवार सुबह जब सिस्टम चालू किया तो देश के दक्षिण में दादू और जमशोरो के बीच वोल्टेज में उतार-चढ़ाव आया, जिससे ग्रिड पर असर पड़ा। पाकिस्तान में चार महीने में दूसरी बार है जब पूरे देश का पावर ग्रिड इस तरह से ठप हुआ है।

2012 को 40 करोड़ लोग अंधेरे में डूब गए थे

30 और 31 जुलाई 2012 को भारत में बड़े पैमाने पर बिजली कटौती हुई, जिसे मानव जाति के इतिहास में सबसे खराब बिजली संकट कहा जा सकता है। दो आउटेज में से पहले ने लगभग 350 मिलियन लोगों को प्रभावित किया, जबकि दूसरे ने 670 मिलियन लोगों पर असर डाला। 28 भारतीय राज्यों में से 21 में इसका प्रभाव देखने को मिला था।  महत्वपूर्ण प्रश्न जिसका उत्तर देना आवश्यक है, वास्तव में ऐसा क्या हुआ जिसके कारण आउटेज हुआ। 

इसे भी पढ़ें: Pakistan Power Crisis: कंगाल दोस्त से चीन ने झाड़ लिया पल्ला? अमेरिका ने पाक से नजदीकी बढ़ाना शुरू कर दिया, बिजली संकट से उबारने के लिए दिया मदद का भरोसा

भारतीय इलेक्ट्रिसिटी का बैक बोन: विद्युत ग्रिड

भारत में विद्युत नेटवर्क को पाँच क्षेत्रीय ग्रिडों उत्तरी, उत्तर-पूर्वी, पूर्वी, पश्चिमी और दक्षिणी क्षेत्रीय ग्रिड में विभाजित किया गया है। भारत में उत्पादित बिजली का लगभग दो-तिहाई हिस्सा कोयले से चलने वाले ताप विद्युत संयंत्रों से आता है, जो प्रमुख कोयला खदानों के निकट होने के कारण पूर्वी क्षेत्र में केंद्रित हैं। हाइड्रो उत्पादन ज्यादातर उत्तरी और उत्तर-पूर्वी क्षेत्रों में स्थित है। दूसरी ओर, प्रमुख बिजली निकासी भार उत्तर, पश्चिम और दक्षिण क्षेत्रों में स्थित हैं। भारत की बढ़ती अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए, इस भौगोलिक रूप से विषम उत्पादन-खपत प्रोफ़ाइल को हजारों मील की दूरी पर बिजली के भारी प्रवाह की आवश्यकता होती है। 30 जुलाई 2012 को न्यू ग्रिड में एक गड़बड़ी हुई, जिसके कारण उत्तरी क्षेत्रीय ग्रिड को बाकी हिस्सों से काट दिया गया और अंततः 28 भारतीय राज्यों में से 8 में अंधेरा छा गया। मात्र 32 घंटे बाद, 31 जुलाई 2012 को लगभग 1300 घंटेगड़बड़ी फिर से उभरी, जिससे लगभग 670 मिलियन लोग प्रभावित हुए। जम्मू-कश्मीर, हिमाचल, पंजाब से लेकर, दिल्ली, यूपी, बिहार, ओडिशा और पूर्वोत्तर भारत के कुल 22 राज्यों में अंधेरा छा गया था। बताया गया था कि 32 गीगावॉट बिजली उत्पादन क्षमता ठप पड़ गई थी। 1 अगस्त 2012 को बिजली बहाल हो गई। 

अन्य न्यूज़