आंकड़ों के स्वादिष्ट पकौड़े (व्यंग्य)

pakaude
संतोष उत्सुक । Oct 29, 2020 5:50PM
अच्छी तरह से पकाए आंकड़ों को सुन्दर प्लेट में स्वादिष्ट डिश की तरह पेश किया जाए तो देखने वाले का नजरिया अविलम्ब सकारात्मक हो उठता है। जिस तरह चेतावनी देने की चीज़ है लेने की नहीं, आंकड़े मानने की नहीं, दिखाने और बताने की चीज़ है।

विश्वगुरुओं के देश में कुछ भी सीखना मुश्किल नहीं। सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक और आर्थिक हिसाब किताब करने में हम जगत प्रसिद्द हैं। इन व्यवसायों से सम्बंधित आंकड़े बोने, उगाने, काटने, पकाने और सजाने में हम माहिर हो चुके हैं। दुनिया को हमने ही शून्य दिया, अब सबसे चर्चित आंकड़े दे रहे हैं। मसाला उगाने और पीसने के साथ विभिन्न तरह का खाना बनाने का लम्बा अनुभव बहुत काम आ रहा है।

इसे भी पढ़ें: जब नए मंत्रीजी ने कोरोना पकड़ा (व्यंग्य)

आंकड़ों को स्वादिष्ट आकार, दिलचस्प पहनावा और आकर्षक रूप रंग कैसे देना है कोई हमसे सीखे। सीखने और सिखाने वाले जानते हैं कि हमारे यहां ऐसे ख़ास विकसित दृष्टिकोण हैं कि आंकड़ा विश्व में नंबर वन दिखे। आंकड़ों का रिकॉर्ड सबसे बेहतर और निहायत पारदर्शी कैसे बनाए रखना है, यह बताने समझाने बारे हम गर्व महसूस करते हैं। उदहारणतया जंगल में जिन दो तीन तरह के वृक्ष ज़्यादा हों हर वर्ष केवल उन्हें ही बार बार गिनना चाहिए। आंकड़ा मनचाहा होना बहुत ज्यादा ज़रूरी है, उसके रंग मानवीय आंखों को सौम्य लगने ही चाहिए, उनमें से निकलने वाली शांत ध्वनियां कानों को मधुर लगनी ही चाहिए। 

अच्छी तरह से पकाए आंकड़ों को सुन्दर प्लेट में स्वादिष्ट डिश की तरह पेश किया जाए तो देखने वाले का नजरिया अविलम्ब सकारात्मक हो उठता है। जिस तरह चेतावनी देने की चीज़ है लेने की नहीं, आंकड़े मानने की नहीं, दिखाने और बताने की चीज़ है। आंकड़े हमेशा परिवर्तनशील रहने चाहिए, जो आंकड़े सहन न हो रहे हों, कुछ समय बाद बुरे लगने लगें उन्हें हटा देना चाहिए और नए आकर्षक खुशबूदार आंकडें पेश कर देने चाहिएं। कुछ सच्चे आंकडें सालों टिके रहते हैं जैसे वीआईपी की गाड़ियों से ही बत्ती उतरी, उनके दिमाग से नहीं। इतने दशक से निरंतर बहती वीआईपी संस्कृति का आंकड़ा यूं बदल नहीं सकता। वीआईपी अपने महत्त्व का आंकड़ा कम क्यूं करना चाहेंगे। फिर कोई सत्य आंकड़ा अपना उंचा स्थान क्यूँ छोड़ेगा। 

इसे भी पढ़ें: रावण के पुतले के प्रश्न (व्यंग्य)

गरीबी बहुत प्रसिद्द आंकड़ा है जब राजनीति इसकी मदद करती है तो यह आंकड़ा महत्वपूर्ण ढंग से निखरकर नया चोला पहन लेता है। चैनल अपना सहयोग देते हुए नए आंकड़े गढ़ते, बिगाड़ते, मरम्मत करते हुए इतिहास रचते हैं। अगर हम बीमारी के बारे में संजीदा शैली में कह देते हैं कि यह गंभीर प्रवृति की नहीं है तो चाहे आंकड़ा ज़्यादा भी हो उसका असर विश्वस्तर पर कम हो जाता है। इस आंकड़े को वहां पड़े पीले आंकड़े से भाग देकर जो अंक आए उसे ऊपर रखे तिकोने लाल आंकड़े से गुणा कर, तीन फुट नीचे दबाए तेलीय आंकड़ों में पंद्रह मिनट तक, सौ प्रतिशत डुबोकर रखें। अब उन्हें विचार और संकल्प की कढ़ाही में अच्छे से पका दें और योजनाओं का स्वादिष्ट सूखा मसाला लगा दें।

भविष्यवक्ता से सही मुहर्त निकलवाकर यह सुनिश्चित कर लें कि कितने प्रतिशत आंकडें दिखने और सुनने में बेहतर लगेंगे और अधिकांश लोगों को पसंद भी आएंगें। आकर्षक आंकडें स्वादिष्ट पकौड़ों से कम नहीं होते। इन्हें बारह महीने पसंद किया जाता है क्यूंकि हमारे यहां राजनीति की तीखी मीठी चटनी हमेशा उपलब्ध होती है।

- संतोष उत्सुक

अन्य न्यूज़