चिंता नहीं मनोरंजन करिए (व्यंग्य)

people
संतोष उत्सुक । Mar 24, 2022 5:58PM
यह भी तो ऐसा ही हुआ। ओमिक्रोन का रोना थमा तो कुछ वरिष्ठजनों ने एनजीओ बनाई ताकि शहर की बढ़ती समस्याओं बारे प्रशासन का ध्यान आकृष्ट किया जाए। बड़ी मुश्किल से इक्कठे हुए दस बारह लोग सरकारी अधिकारी के सामने कुर्सियों पर विराजे हुए थे।

आती हुई गर्मियों में विशाल वृक्ष की छांव में बैठक कर बनाई गई नई एनजीओ के सदस्यों को बड़े अफसर से मिलने का समय, मुश्किल से मिलना था मुश्किल से ही मिला। अफसर भी क्या क्या करें किसी न किसी तरह का समारोह, आयोजन, उत्सव या फिर चुनाव चला ही रहता है। नागरिक व सामाजिक नहीं शुद्ध राजनीतिक योजनाओं को लागू करवाने के लिए खुद फील्ड में जाना पड़ता है। कमबख्त ग्रामीण क्षेत्र के दौरे ख़त्म ही नहीं होते। कई बार तो शरीर बहुत थक जाता है। कितनी बार तो नींद पूरी नहीं होती और छुट्टियों में भी दफ्तर बैठना पड़ता है। हर जगह वीडियो बनाकर अपलोड करने वाले तैयार खड़े होते हैं इसलिए सब कुछ बिलकुल सैट और फिट रखना पड़ता है। इधर मौसम खुलते ही हज़ारों एनजीओज़ के पुराने जंग लगते ढेर पर नई एनजीओ को उगा कर उसके अभिभावक मिलने पहुंच जाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: ताकत की दुनिया (व्यंग्य)

यह भी तो ऐसा ही हुआ। ओमिक्रोन का रोना थमा तो कुछ वरिष्ठजनों ने एनजीओ बनाई ताकि शहर की बढ़ती समस्याओं बारे प्रशासन का ध्यान आकृष्ट किया जाए। बड़ी मुश्किल से इक्कठे हुए दस बारह लोग सरकारी अधिकारी के सामने कुर्सियों पर विराजे हुए थे। जनाब अपनी उनींदी आखों से उनसे मुखातिब हुए। उनका मांग पत्र लिया और पढ़ते पढ़ते यह घोषित कर दिया कि यह काम तो म्युनिसिपल कमेटी का है। पूछने लगे, आप सब रिटायर्ड हैं। रिटायर्ड लोगों ने कहा, हम रिटायर्ड हैं लेकिन अभी तक टायर्ड नहीं है और स्वस्थ भी हैं, मिलजुल कर नगर सेवा करना चाहते हैं। उच्च अधिकारी के कहने का असली मतलब था कि क्यूं परेशान हो रहे हैं, अब तो आराम से घर बैठो, क्यूं फालतू की एनजीओ बनाकर हमारा समय भी खराब करते हो। यह तो सभी को पता है कि ज़्यादातर एनजीओज़ कितना ज़बर्दस्त काम करती हैं। वरिष्ठजनों ने अफसर से गुज़ारिश की, कि शहर की सफाई व्यवस्था, सार्वजनिक शौचालय  व पार्किंग के असली हालात देखने के लिए वे किसी सुबह उनके साथ सैर के लिए चलें।

इसे भी पढ़ें: होममेड संस्करण आचार का (व्यंग्य)

बड़े आदमी ने मन ही मन कहा कि इनसे किसी तरह पिंड छुड़ाना पड़ेगा। शहर की लगभग सभी योजनाओं में राजनीतिक दखलंदाज़ी अपनी मर्जी करवाती है। जो नगर राजा कहते हैं करते करवाते चलो, उन्हें क्या लेना, वर्तमान पोस्टिंग आराम से निकल जाए यही उनकी प्राथमिकता है। उनको लगा यदि हां कर दी तो ये सठियाए शरीर, पिचके गाल बार बार दुखी किया करेंगे। उन्होनें बड़े अदब से फरमाया, आप चिंता न करें,  मैं किसी को भेज कर चैक करवाता हूं। पुराने नागरिकों में शहर के प्रति ज्यादा प्यार कूट कूट कर भरा हुआ था इसलिए उन्होंने फिर आग्रह किया कि हमारी गुज़ारिश है कि एक बार खुद आप वास्तविक स्थिति देखने हमारे साथ ज़रूर चलें। अपना काम नियमों के अनुसार निबटाने वाली कुर्सी बोली, आप इस उम्र में बड़े एनरजैटिक हैं, चिंता न करें, समय निकाल कर मैं हो आउंगा। इस बार उनका आशय था कि आप यही ऊर्जा घर में बैठ टीवी पर राजनीतिक हलचल देखने, अखबार पढने, पुराने फ़िल्मी गीत सुनने, फेसबुक या व्ह्ट्सएप युनिवर्सिटी में पढने या बाग में टहलने में लगाएं। वरिष्ठ नागरिकों को एक बार फिर से समझा दिया गया कि सरकारी काम अपनी चाल से होते हैं, उनकी चाल ढाल कोई बदल नहीं सकता हां खाल उचित समय पर बदल दी जाती है। इस बारे आम लोगों को बिल्कुल चिंता नहीं करनी चाहिए। हमारा असली रक्षक तो नीली छतरी वाला, बांसुरी वाला ही है। 

- संतोष उत्सुक

अन्य न्यूज़