83 साल पहले हिटलर की सेना पोलैंड में घुसी और हो गया द्वितीय विश्व युद्ध का आगाज, फिर से चर्चा में आया ये नाटो देश, क्या फॉल्स फ्लैग है मिसाइल हमला?

NATO
Prabhasakshi
अभिनय आकाश । Nov 16, 2022 5:07PM
पोलैंड के प्रधानमंत्री ने एक इमरजेंसी मीटिंग बुलाई है। मंत्री परिषद और सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बुलाई गई है। वहीं मिसाइल हमले के बाद पोलैंड के राष्ट्रपति ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से बात की है।

इंसान को इंसान से बेपनाह नफरत सिखाने की पाठशाला। मानवता को दुत्कारने का खुला निरंकुश मंच? जो भी हो लेकिन शाश्वत सत्य यही है कि इससे केवल तबाही ही आई है। युद्ध के इतिहास की  बात करें तो पोलैंड ही वो देश है जहां आज से 83 साल पहले यानी 1939 में हिटलर की सेना ने एंट्री ली और फिर उसी दिन से यूरोप में द्वितीय विश्व युद्ध का आगाज हो गया था। अब एक बार फिर पोलैंड पर हुए मिसाइल हमले को लेकर तीसरे विश्व युद्ध की आशंकाएं तेज होने लगी हैं। नाटो के सदस्य देश और यूक्रेन के पड़ोसी देश पोलैंड में गिरी रूसी मिसाइलों ने एक बार फिर तहलका मचा दिया है। मिसाइल अटैक से पोलैंड में भारी सरगर्मी है। पोलैंड के प्रधानमंत्री ने एक इमरजेंसी मीटिंग बुलाई है। मंत्री परिषद और सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बुलाई गई है। वहीं मिसाइल हमले के बाद पोलैंड के राष्ट्रपति ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से बात की है। इसके अलावा बाइडेन ने नाटो चीफ से भी बातचीत की है। इस हमले के बाद अमेरिका ने कहा कि वो पोलैंड के साथ है और नाटो क्षेत्र के एक-एक इंच की रक्षा करेगा। 

इसे भी पढ़ें: नाटो देश पर मिसाइल हमले से पूरी दुनिया सहम गई, कैसे पोलैंड धीरे-धीरे युद्ध का नया फ्लैशपॉइंट बन गया

क्या रूस अब पोलैंड पर हमला कर रहा है?

विस्फोट को लेकर अभी तक तस्वीरें साफ नहीं हैं। यह भी पता नहीं चला है कि मिसाइल किसने और कहां से दागी। पोलिश विदेश मंत्रालय के एक बयान में शुरू में कहा गया था कि मिसाइल रूसी निर्मित थी। राष्ट्रपति आंद्रेज डूडा ने सबसे पहले संवाददाताओं से कहा कि यह "शायद" रूसी निर्मित था और इसकी उत्पत्ति अभी भी सत्यापित की जा रही थी। बाद में उन्होंने कहा कि इस बात का कोई ठोस सबूत नहीं था कि इसे किसने दागा है। डूडा ने संवाददाताओं से कहा कि हम शांति से काम ले रहे हैं। यह एक कठिन स्थिति है। उन्होंने कहा कि पोलैंड अपनी सैन्य तैयारियों का स्तर बढ़ा रहा है। बाद में, हालांकि, द एसोसिएटेड प्रेस ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से बताया कि मिसाइल को यूक्रेनी सेना द्वारा एक आने वाली रूसी मिसाइल पर दागा गया था।

क्या ये यूक्रेन की मिसाइल थी?

राष्ट्रपति जो बाइडेन जी20 शिखर सम्मेलन के लिए बाली में हैं। इस दौरान उन्होंने कहा है कि शुरुआती जानकारी से पता चलता है कि विस्फोट रूस से दागी गई मिसाइल से नहीं हुआ होगा। बाइडेन ने कहा कि कि संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके नाटो सहयोगी पोलैंड में हुए विस्फोट की जांच कर रहे हैं, लेकिन शुरुआती जानकारी से पता चलता है कि यह रूस से दागी गई मिसाइल के कारण नहीं हुआ होगा। हालांकि, बाइडेन ने पोलैंड की जांच के लिए पूर्ण अमेरिकी समर्थन और सहायता" का वादा किया है, और "नाटो के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका की दृढ़ प्रतिबद्धता की पुष्टि की है। उन्होंने पोलैंड में स्थिति पर परामर्श के लिए इंडोनेशिया में ग्रुप ऑफ सेवन और नाटो नेताओं की एक आपात बैठक भी बुलाई।

रूस ने पोलैंड में मिसाइल पर क्या कहा है?

रूस ने मिसाइल दागने से इनकार किया है। इसके रक्षा मंत्रालय ने रिपोर्ट को "स्थिति को बढ़ाने के उद्देश्य से एक जानबूझकर उकसाने वाला" बताया। क्रेमलिन के प्रवक्ता दमित्री पेस्कोव ने इस बीच कहा कि उन्हें पोलैंड में विस्फोट की कोई सूचना नहीं है। रूस ने एक बयान में कहा कि यह हालात को और बिगाड़ने और जानबूझकर उकसाने की कोशिश है।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका जंग में उतर गया! बेलारूस खौफ से दहला, रूस का NATO पर सीधा हमला

पोलैंड हमले के पीछे वास्तव में रूस तो फिर क्यों चिंता की बात?

ये बेहद ही खतरनाक और दुनिया को तीसरे विश्व युद्ध की तरफ  ले जाने वाला मामला हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पोलैंड नाटो का सदस्य है और संधि की शर्तों के तहत, नाटो के एक सदस्य पर हमले को सभी पर हमला माना जाता है। इसके बाद जरूरत पड़ने पर नाटो आक्रमणकारी के खिलाफ सैन्य रूप से हस्तक्षेप कर सकता है। यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिम्र ज़ेलेंस्की ने इसे युद्ध का "एक बहुत महत्वपूर्ण वृद्धि" बताया।

जेलेंस्की बोले- मिसाइल गिरने पर एक्शन जरूरी 

पोलैंड की सीमा में मिसाइल गिरने पर जेलेंस्की ने कहा कि नाटो क्षेत्र पर हमला बहुत ही गंभीर मामला है। उन्होंने इसके लिए रूस को जिम्मेदार ठहराया है। जेलेंस्की ने कहा कि नाटो क्षेत्र में मिसाइल गिरने पर एक्शन जरूरी है। रूस का आतंक हमारे राज्य की सीमाओं तक सीमित नहीं है। जेलेंस्की के इस  बयान का सीधा मतलब यही है कि वो चाहते हैं कि नाटो इस जंग में सीधा उनके साथ आ जाए। 

तो अब क्या होगा?

न्यूयॉर्क टाइम्स रिपोर्ट कर रहा है कि राष्ट्रपति डूडा ने कहा है कि यह "अत्यधिक संभावना" है कि वह नाटो के अनुच्छेद 4 को सक्रिय करने के लिए कहेंगे। नाटो संधि के अनुच्छेद 4 में उस मामले को शामिल किया गया है जब कोई सदस्य देश किसी अन्य देश या आतंकवादी संगठन से खतरा महसूस करता है। 30 सदस्य देश तब धमकी वाले सदस्य के अनुरोध पर औपचारिक परामर्श शुरू करते हैं। 

 नाटो चार्टर का अनुच्छेद 4 वास्तव में क्या कहता है?

नाटो संधि के अनुच्छेद 4 में उस मामले को शामिल किया गया है जब कोई सदस्य देश किसी अन्य देश या आतंकवादी संगठन से खतरा महसूस करता है। 30 सदस्य देश तब धमकी वाले सदस्य के अनुरोध पर औपचारिक परामर्श शुरू करते हैं। वार्ता यह देखती है कि क्या कोई खतरा मौजूद है और इसका मुकाबला कैसे किया जाए, निर्णय सर्वसम्मति से आए। हालांकि, अनुच्छेद 4 का मतलब यह नहीं है कि कार्रवाई करने का सीधा दबाव होगा। इस परामर्श तंत्र को नाटो के इतिहास में कई बार शुरू किया गया है। उदाहरण के लिए एक साल पहल, जब सीरिया के हमले में तुर्की के 39 सैनिक मारे गए थे। उस समय नाटो ने परामर्श करने का फैसला किया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की।

अनुच्छेद 4 विमर्श के लिए, हस्तक्षेप के बारे में नहीं?

हाँ। सदस्य देश अनुवर्ती कार्रवाई करने के लिए बाध्य नहीं हैं, भले ही इस तरह के विचार-विमर्श से सैन्य कार्रवाई करने का निर्णय हो सकता है। द वाशिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट के अनुसार, 1949 में नाटो की स्थापना के बाद से अनुच्छेद 4 को सात बार लागू किया गया है। लातविया, लिथुआनिया, पोलैंड, बुल्गारिया, चेक गणराज्य, एस्टोनिया, रोमानिया और स्लोवाकिया ने हाल ही में यूक्रेन के रूसी आक्रमण पर परामर्श आयोजित करने का आह्वान किया। बाद, अक्टूबर 2012 में तुर्की पर सीरियाई हमलों और उनके पलटवार के बाद और फरवरी 2020 में बढ़ते तनाव के बीच उत्तर पश्चिमी सीरिया के हमले के दौरान इसे अब तक चार बार लागू किया गया।

फिर नाटो कैसे हस्तक्षेप कर सकता है?

यह नाटो चार्टर के अनुच्छेद 5 के तहत है।  इसमें सदस्य इस बात से सहमत हैं कि यूरोप या उत्तरी अमेरिका में उनमें से किसी एक के खिलाफ सशस्त्र हमले को उन सभी के खिलाफ हमला माना जाएगा। इसमें इस बात पर सहमति जताई गई है कि उनमें से प्रत्येक सदस्य देश सशस्त्र बल के उपयोग सहित, आवश्यक समझी जाने वाली कोई भी कार्रवाई करके हमला करने वाले पक्षों को सबक सिखाया जाएगा। नाटो ने अनुच्छेद 5 खंड को केवल एक बार लागू किया है - वह अमेरिका पर 9/11 के आतंकवादी हमलों के बाद था, और नाटो सेना प्रतिक्रिया में अफगानिस्तान में चली गई। -अभिनय आकाश

अन्य न्यूज़