कोरोना का खतरा पूरी तरह नहीं टला, स्वास्थ्यकर्मियों का जल्द शत-प्रतिशत टीकाकरण जरूरी है: अशोक गहलोत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   09:54
कोरोना का खतरा पूरी तरह नहीं टला, स्वास्थ्यकर्मियों का जल्द शत-प्रतिशत टीकाकरण जरूरी है: अशोक गहलोत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को टीकाकरण अभियान की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने रविवार से टीकाकरण केंद्रों की संख्या 167 से बढ़ाकर 350 करने और आवश्यकता के अनुरूप इनकी संख्या और बढ़ाने के निर्देश दिए।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा पूरी तरह टला नहीं है इसलिए स्वास्थ्यकर्मियो का शत-प्रतिशत टीकाकरण जल्द से जल्द होना जरूरी है। उन्होंने निर्देश दिया कि भारत सरकार के निर्देश के मुताबिक राज्य में टीकाकरण स्थल की संख्या बढ़ाकर प्रथम चरण का टीकाकरण जल्द से जल्द पूरा किया जाए। गहलोत बृहस्पतिवार को टीकाकरण अभियान की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने रविवार से टीकाकरण केंद्रों की संख्या 167 से बढ़ाकर 350 करने और आवश्यकता के अनुरूप इनकी संख्या और बढ़ाने के निर्देश दिए। 

इसे भी पढ़ें: अच्छा चल रहा है टीकाकरण अभियान, अमित शाह बोले- दुनिया भारत के वी-आकार के सुधार से हैरान है 

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्यकर्मियों के जल्द टीकाकरण के लिए सप्ताह में टीकाकरण दिवस की संख्या बढ़ाएं। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘विशेषज्ञों की राय के अनुसार कोरोना का खतरा पूरी तरह टला नहीं है। ऐसे में स्वास्थ्यकर्मियो का शत-प्रतिशत टीकाकरण जल्द से जल्द होना जरूरी है ताकि भविष्य में कोरोना की नयी लहर आए तो वे पूरी सुरक्षा एवं आत्मविश्वास के साथ प्रदेशवासियों के जीवन की रक्षा कर सकें। साथ ही हम अगले चरणों के टीकाकरण के लिए भी तैयार हो सकें।’’ 

इसे भी पढ़ें: टीकाकरण के दूसरे चरण में PM मोदी को लगेगी वैक्सीन, मुख्यमंत्रियों और सांसदों के लिए भी की गई व्यवस्था 

गहलोत ने कहा, ‘‘देश में करीब 30 करोड़ लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। ऐसे में, केन्द्र सरकार को इस अभियान को गति देने के लिए इसकी व्यवस्थाओं तथा प्रबंधन का अधिक विकेन्द्रीकरण करना चाहिए ताकि राज्य अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप टीकाकरण के लक्ष्य को जल्द हासिल कर सके।’’ उन्होंने कहा कि ‘कोविन’ सॉफ्टवेयर में तकनीकी बाधाओं के कारण टीकाकरण के लक्ष्य को हासिल करने में कठिनाई आ रही है। केन्द्र सरकार इसमें भी आवश्यक तकनीकी सुधार करे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।