कंबोडिया में फंसे हैं गोरखपुर के 150 नागरिक, सांसद रवि किशन ने विदेश मंत्री को लिखा पत्र

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 23, 2021   12:36
कंबोडिया में फंसे हैं गोरखपुर के 150 नागरिक, सांसद रवि किशन ने विदेश मंत्री को लिखा पत्र

सांसद रवि किशन शुक्ल ने कहा कि मेरी अपनी जनता है तथा अपनी जनता तथा अपने लोगों की सुरक्षा मेरा परम कर्तव्य है। उन्होंने कहा है कि नागरिकों की वापसी के लिए वे लगातार विदेश मंत्रालय के संपर्क में हैं और जब तक उन्हें गोरखपुर नहीं बुलाया जाता तब तक वह प्रयास करते रहेंगे।

गोरखपुर। गोरखपुर के रहने वाले 150 नागरिकों को जो कंबोडिया की राजधानी नोमपेन्ह में फंसे हैं उन्होंने सांसद रवि किशन से मदत की गुहार लगाई। जिसके फलस्वरुप गोरखपुर सदर सांसद रवि किशन शुक्ल ने विदेश मंत्रालय को पत्र लिखा जिसमे उन्होंने लिखा है कि वह जल्द से जल्द गोरखपुर के अपने लोगों का वतन वापसी कराएंगे। सांसद रवि किशन ने संज्ञान लेते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर को पत्र लिखा तथा यह मांग किया है कि विदेश मंत्रालय इस पर जल्द से जल्द कार्रवाई कर गोरखपुर के 150  नागरिकों को वापस गोरखपुर भेजें। सांसद रवि किशन शुक्ल ने कहा कि मेरी अपनी जनता है तथा अपनी जनता तथा अपने लोगों की सुरक्षा मेरा परम कर्तव्य है। उन्होंने कहा है कि नागरिकों की वापसी के लिए वे लगातार विदेश मंत्रालय के संपर्क में हैं और जब तक उन्हें गोरखपुर नहीं बुलाया जाता तब तक वह प्रयास करते रहेंगे।

सांसद रवि किशन का कहना है कि उन्हें यकीन है कि विदेश मंत्रालय तथा विदेश मंत्री जल्द ही विदेश में फंसे इन भारतीयों की घर वापसी करायेंगे। उन्होंने कहा है कि भारत की विदेश नीति को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाने का कार्य भारतीय जनता पार्टी तथा भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया है। सदर सांसद रवि किशन शुक्ल ने कहा है कि भारत के तमाम नागरिक जो और देशों में फंसे हुए हैं। उनको भी निकालने की कवायद उनके द्वारा की जाएगी तथा उन्होंने कहा कि उन्हें यकीन है कि विदेश मंत्री जल्द ही विदेश में फंसे नागरिकों को घर वापस लाएंगे। ऐसे में नागरिकों की घर वापसी उनके परिवार के सदस्यों के लिए सबसे बड़ी खुशी होगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।