भारत में कोरोना की तीसरी लहर! अब तक 1.6 करोड़ लोगों को वैक्सीन की नहीं लगी दूसरी डोज

1.6 crore people in India have missed their 2nd shot
निधि अविनाश । Aug 24, 2021 5:41PM
सरकारी आंकड़ों के मुताबिक,हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स जैसे लोग और जिनकी उम्र 45-59 साल और 60 साल से ज्यादा है उन्होंने 2 मई को पहली वैक्सीन की डोज ली थी। इनमें 11.2 करोड़ लोगों को ही केवल सेंकड डोज दी गई है।

भारत में कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका तेज हो गई है वहीं अभी भी लगभग 1.6 करोड़ लोग ऐसे है जिन्होंने वेक्सीन की सेंकड डोज ली ही नहीं है। आपको बता दें कि सेंकड डोज की अवधि 16 हफ्तें से ज्यादा हो गई है लेकिन इन लोगों को अभी तक कोरोना की सेकंड वैक्सीन नहीं लगी है। TOI में छपी एक खबर के मुताबिक, इसमें ज्यादातर बुजुर्ग की संख्या शामिल है। इसके अलावा, अन्य कमजोर का समूह जैसे हेल्थ और फ्रंटलाइन वर्कर्स और 45 साल से ज्यादा उम्र के लोग शामिल हैं। बता दें कि 1.6 का यह आंकड़ा 2 मई यानि की 16 हफ्ते पहले निकाला गया है। इस आंकड़े के मुताबिक, यह पता चला कि कितने लोगों ने 16 हफ्ते पहले कोरोना की पहली डोज लगवा ली है। इन लोगों की संख्या की तुलना उनसे की गई है जिन्होंने कोरोना की दूसरी वैक्सीन लगवा ली है। खबर के मुताबिक यह आंकड़े स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए है। 

इसे भी पढ़ें: मुंबई में 128 नमूनों में डेल्टा स्वरूप की पुष्टि, महाराष्ट्र में डेल्टा प्लस के 27 नए मामले

कोरोना की वैक्सीन कोविशील्ड के लिए 12-16 हफ्तों का गेप रखा गया था वहीं कोवेक्सीन के लिए केवल 4 से 6 हफ्ते का गेप हैं। पहली और दूसरी डोज का गैप जिन लोगों का डेडलाइन से ज्यादा हो गया है उनकी संख्या में बढ़ोतरी हो सकती है क्योंकि अधिकत्तर लोगों को कोविशील्ड लगाई गई है और इसकी अवधि 16 हफ्तें की तय की गई है। दूसरी डोज लेने के लिए तैयार लोगों का अभी तक पूरी तरीके से वैक्सीनेशन नहीं किया गया है और इनकी संख्या 3.9 करोड़ है और यह संख्या आगे भी बढ़ सकती है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक,हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स जैसे लोग और जिनकी उम्र 45-59 साल और 60 साल से ज्यादा है उन्होंने 2 मई को पहली वैक्सीन की डोज ली थी। इनमें 11.2 करोड़ लोगों को ही केवल सेंकड डोज दी गई है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़