1984 दंगा मामले की पैरवी कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता फुल्का को मिली जान से मारने की धमकी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2020   08:52
1984 दंगा मामले की पैरवी कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता फुल्का को मिली जान से मारने की धमकी

दिल्ली की एक अदालत ने 1984 के सिख विरोधी दंगों से जुड़े विभिन्न मामलों में पैरवी कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता एच एस फुल्का को सोमवार को सूचित किया कि न्यायाधीश को एक पत्र मिला है जिसमें उन्हें (फुल्का) जान से मारने की धमकी दी गई है।

नयी दिल्ली। दिल्ली की एक अदालत ने 1984 के सिख विरोधी दंगों से जुड़े विभिन्न मामलों में पैरवी कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता एच एस फुल्का को सोमवार को सूचित किया कि न्यायाधीश को एक पत्र मिला है जिसमें उन्हें (फुल्का) जान से मारने की धमकी दी गई है। अदालत के एक सूत्र ने बताया कि मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट हरज्योत सिंह भल्ला ने सीबीआई को मामले में 11 फरवरी तक जवाब देने का निर्देश दिया।

इसे भी पढ़ें: भाजपा का आरोप, सिख विरोधी दंगों में संलिप्त लोगों को कांग्रेस ने बचाया

अदालत दंगों से जुड़े एक मामले में सुनवाई कर रही थी जिसमें कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर एक आरोपी हैं। सीबीआई इस मामले में टाइटलर को तीन बार क्लीन चिट दे चुकी है लेकिन अदालत ने सीबीआई को मामले की आगे जांच करने का निर्देश दिया था। धमकी के बारे में फुल्का ने कहा, ‘‘ये चीजें मुझे डिगा नहीं पाएंगी। 35 साल की लड़ाई के दौरान इस तरह की धमकियां मुझे अनेक बार मिली हैं।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।