दिल्ली में ऑक्सीजन संकट के बीच जयपुर गोल्डन अस्पताल में 20 मरीजों की मौत

दिल्ली में ऑक्सीजन संकट के बीच जयपुर गोल्डन अस्पताल में 20 मरीजों की मौत

दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन का संकट गहराता जा रहा है। सर गंगा राम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 25 मरीजों की मौत के बाद अब खबरें हैं दिल्ली में ऑक्सीजन संकट के बीच जयपुर गोल्डन अस्पताल में गंभीर रूप से बीमार 20 मरीजों की मौत हो गयी है।

 दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन का संकट गहराता जा रहा है। सर गंगा राम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 25 मरीजों की मौत के बाद अब  खबरें हैं दिल्ली में ऑक्सीजन संकट के बीच जयपुर गोल्डन अस्पताल में गंभीर रूप से बीमार 20 मरीजों की मौत हो गयी है। अस्पताल की तरफ से दी गयी जानकारी के मुताबिक ऑक्सीजन पूरी तरह से खत्म हो गयी थी जिसके बाद अस्पताल में ऑक्सीजन देर से पहुंची इस दौरान 20 मरीजों  ने दम तोड़  दिया। दिल्ली के जयपुर गोल्डन अस्पताल के चिकित्सा निदेशक ने कहा करीब आधे घंटे की ऑक्सीजन बची है अस्पताल में 200 मरीज हैं जिनमें से 80 प्रतिशत ऑक्सीजन पर हैं तथा 35 आईसीयू में हैं।

 अस्पताल की हालत

अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ डी के बलूजा ने  बताया, “भंडार कम होने की वजह से ऑक्सीजन का दबाब घट गया है।” उन्होंने कहा कि अस्पताल में करीब 200 मरीज भर्ती हैं और उनके पास 10 बजकर 45 मिनट पर केवल आधे घंटे की ऑक्सीजन शेष थी। कई घंटों की देरी के बाद अस्पताल को ऑक्सीजन की अंतिम रिफिल मध्यरात्रि में प्राप्त हुई थी। सरकार से किसी तरह की मदद मिली है, यह पूछे जाने पर चिकित्सा निदेशक ने कहा, “किसी ने भी कोई वादा नहीं किया है। हर कोई कह रहा है कि हम भरसक कोशिश कर रहे हैं।” डॉ बलूजा ने कहा कि अस्पताल में भर्ती करीब 200 मरीजों में से 80 प्रतिशत मरीज ऑक्सीजन पर हैं। करीब 35 मरीज आईसीयू में हैं। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली: बत्रा अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म होने के कुछ ही मिनट के भीतर जीवनरक्षक गैस की आपूर्ति हुई

अस्पताल में लगभग 2000 मरीज है जिसमें से 48 मरीज आईसीयू में है। अब ऑक्सीजन की कमी के कारण इन मरीजों की जिंदगी खतरे में हैं। डॉक्टर्स का कहना है कि कोरोना वायरस के मरीजों के लिए ऑक्सीजन संजीवनी है। ऑक्सीजन  लेवल कम होने के बाद ही मरीज अस्पताल आता है ऐसे में ऑक्सीजन  नहीं होने से मरीजों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...