उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 220 नये मामले, 1,394 एक्टिव केस, वैक्सीनेशन का कार्य जारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 28, 2022   20:27
उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 220 नये मामले, 1,394 एक्टिव केस, वैक्सीनेशन का कार्य जारी

प्रदेश में कल तक 18 वर्ष से अधिक लोंगों को कुल पहली डोज 15,29,54,297 तथा दूसरी डोज 12,98,61,915 दी गयी। 15 से 17 वर्ष आयु वर्ग को कल तक कुल पहली डोज 1,33,04,914 तथा दूसरी डोज 91,54,159 दी गयी है।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने आज बताया कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,15,352 सैम्पल की जांच की गयी। कोरोना संक्रमण के 220 नये मामले आये हैं। प्रदेश में अब तक कुल 11,10,40,542 सैम्पल की जांच की गयी हैं। उन्होंने बताया कि विगत 24 घण्टों में 208 लोग तथा अब तक कुल 20,48,879 लोग कोविड-19 से ठीक हुए हैं। उन्होने बताया कि प्रदेश में कोरोना के कुल 1,394 एक्टिव मामले है। प्रसाद ने बताया कि कोविड वैक्सीनेशन का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। प्रदेश में कल 27 अप्रैल, 2022 को एक दिन में 5,32,664 वैक्सीन की डोज दी गयी है। उन्होने बताया कि प्रदेश में कल तक 18 वर्ष से अधिक लोंगों को कुल पहली डोज 15,29,54,297 तथा दूसरी डोज 12,98,61,915 दी गयी। उन्होंने बताया कि 15 से 17 वर्ष आयु वर्ग को कल तक कुल पहली डोज 1,33,04,914 तथा दूसरी डोज 91,54,159 दी गयी है। 12 से 14 वर्ष आयु वर्ग को कल तक कुल पहली डोज 47,70,564 तथा दूसरी डोज 1,85,750  दी गयी। कल तक 27,41,008 प्रीकॉशन डोज दी गयी है। उन्होंने बताया कि कल तक कुल मिलाकर 31,29,72,607 वैक्सीन की डोज दी गयी है।

पूर्वांचल के आलू किसानों को मिलेगा गुणवत्तायुक्त बीज

उत्तर प्रदेश के उद्यान, कृषि विपणन, कृषि विदेश व्यापार तथा कृषि निर्यात राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दिनेश प्रताप सिंह आज जनपद कुशीनगर के राजकीय आलू प्रक्षेत्र कसया में 8.59 करोड़ रूपये की लागत से सेन्टर ऑफ एक्सीलेन्स फॉर पोटैटो का शिलान्यास किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि इस एक्सीलेन्स सेंटर की स्थापना से पूर्वांचल के आलू किसानों को उच्च गुणवत्ता युक्त आलू बीज की उपलब्धता सुनिश्चित करने तथा आलू से संबंधित नवीन तकनीकी जानकारी भी प्राप्त होगी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि सेन्टर ऑफ एक्सीलेन्स फॉर पोटैटो में कराये जाने वाले कार्यों को समयबद्धता एवं गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाए।

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव ने खुदकुशी करने वाली महिला दरोगा के परिजनों से की मुलाकात

श्री सिंह ने कहा कि प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने प्रदेश की अर्थ व्यवस्था को एक ट्रिलियन डॉलर करोड़ रूपये बनाने का संकल्प लिया है। इसलिए प्रदेश के किसानों की आर्थिक स्थिति को कृषि उत्पादन के माध्यम से सुदृढ़ करना है जो प्रदेश की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने के लिए आवश्यक होगा। इसमें उद्यान विभाग अहम भूमिका निभायेगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि गोरखपुर मण्डल में उद्यान विभाग के बन्द पड़े कोल्ड स्टोरेज को यथा संभव संचालित करें। किसानों का आलू किसी भी दशा में बर्बाद न होने पाए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि मा0 मुख्यमंत्री जी के निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन कराते हुए 100 दिन में सक्रियता और परिवर्तन दिखाई पड़े। उद्यान मंत्री ने किसान और नौजवानों को भरोसा दिलाया कि पहले दिन जिस सेन्टर की नींव रख कर वे जा रहे हैं, उसे देखने और बढ़ाने के लिए आते रहेंगे। उन्होंने अपने आप को किसान का बेटा बताते हुए कहा कि जनपद कुशीनगर में ऐसी उन्नत खेती जहां 01 एकड़ में रूपये 20 लाख की स्ट्रॉबेरी की पैदावार होती है यह जानकर काफी प्रसन्नता हुई तथा मनोबल भी बढ़ा। उन्होंने विश्वास दिलाया कि आलू हेतु कोल्ड स्टोरेज के सुदृढ़ीकरण, नए कोल्ड स्टोर के निर्माण की आवश्यकता हो तो उसे पूरा किया जाएगा। उन्होंने आश्वासन दिया कि जितनी क्षमता जनपद में आलू की उत्पादन होगी उसकी क्षमता के अनुसार कोल्ड स्टोर की व्यवस्था भी अगले 01 साल में करवाई जाएगी।

श्री सिंह ने किसानों को शोधित बीज विभाग द्वारा उपलब्ध कराए जाने का आश्वासन दिया, जिससे अच्छी पैदावार होगी। पॉलीहाउस के बारे में बताया की कम भूमि में कैसे अधिक फायदा हो सकता है। उन्होनें कहा कि आने वाले वक्त में यहां का आलू दूसरे देशों में भी पहुंचे इसकी पूरी व्यवस्था की जाएगी। उद्यान मंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि अधिकारीगण यह सुनिश्चित कर ले कि यहां के हर किसान को हर हालत में उनकी चौखट पर शोधित बीज की उपलब्धता सुनिश्चित होनी चाहिए। इसके लिए अधिकारी नियमित रूप से मॉनीटरिंग करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि उद्यान विभाग की योजनाओं का लाभ वेबसाइट के साथ-साथ कागज और पंपलेट के माध्यम से जानकारी गांव के हर किसान, हर घर, हर गरीब तक पहुचाये। ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने निर्देशित किया की 100 पुरवों की बैठक हर सप्ताह ली जाए तथा उद्यान विभाग की संचालित योजनाओं का लाभ हर किसान के पास पहुॅचाए। उन्होंने कहा कि 100 दिन के भीतर मंडल के जनपदों के हर न्याय पंचायत के हर चौखट तक उद्यान विभाग पहुंचे।

श्री सिंह ने भूमि दान देने वाले बाबू गेंदा सिंह की आदम कद मूर्ति को भी उक्त कैंपस में लगाए जाने हेतु प्रयास करने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि शांति और करुणा के सागर भगवान बुद्ध कि पावन भूमि कुशीनगर और गौरक्ष पीठाधीश्वर उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री कि तपो भूमि और कर्म भूमि गोरखपुर मंडल के कश्या में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर पोटैटो पर 8.59 करोड़ रुपए का व्यय आएगा। जिसमें टिशू कल्चर एवं एयरोपोनिक्स के माध्यम से गुणवत्ता युक्त बीज उत्पादन होगा, जिससे किसान अधिक उत्पादन ले सकता है। उद्यान मंत्री ने कहा कि वर्तमान में भी स्ट्रॉबेरी ड्रैगन फ्रूट आलू केले जैसी खेती करता आ रहा है जो आम तौर पर हर क्षेत्र मे लोग नही कर पाते है। उन किसानो को पौली हाउस ड्रिप स्प्रिंकलर मलचिंग आदि सुविधाए उद्यान विभाग उपलब्ध कराएगा। विभागीय अधिकारियों को इस आशय के निर्देश दिए गए है कि वो हर न्याय पंचायत वार कम-से-कम 100 किसानो कि चौपाल आयोजित कर उद्यान विभाग द्वारा संचालित योजना कि जानकारी दी जाए

उद्यान मंत्री ने इस अवसर पर लालजी कुशवाहा, राजाराम कुशवाहा, सुदर्शन कुशवाहा, संतोष जी, हर्ष प्रकाश तिवारी, लाल बहादुर, मुखदेव कुशवाहा, समीर सिंह, राजहंस आदि किसानों को उन्होंने शॉल व चेक भेंट कर सम्मानित किया। कुछ किसानों के द्वारा उन्हें अपने खेत के उत्पाद के रूप में खरबूजा और तरबूज भी सप्रेम भेंट किया गया। इस क्रम में उन्हें भगवान बुद्ध की प्रतिमा देकर भी सम्मानित किया गया।

इसे भी पढ़ें: UP में कोरोना संक्रमण के 203 नये मामले, 1316 एक्टिव केस, वैक्सीनेशन का कार्य जारी

जल शक्ति मंत्री ने वीडियों कान्फ्रेसिंग के माध्यम से बाढ़ कार्यों की समीक्षा

प्रदेश के जल शक्ति मंत्री श्री स्वतंत्र देव सिंह द्वारा कल देर शाम डा0 राम मनोहर लोहिया परिकल्प भवन, तेलीबाग, लखनऊ में बाढ़ कार्याें की समीक्षा वीडियों कान्फ्रेसिंग के माध्यम से की गयी। उन्होंने बैठक में निर्देश दिये कि बाढ़ कार्यो की प्रगति रिपोर्ट क्षेत्रीय अधिकारियों द्वारा प्रतिदिन उपलब्ध करायी जाए। कार्याें की ठेकेदारी में किसी अधिकारी/कर्मचारी का कोई भी रिश्तेदार किसी भी स्तर पर संलग्न न हो। बैठकों में प्लास्टिक का उपयोग न किया जाए। उन्होंने निर्देश दिया कि समस्त क्षेत्रीय अधिकारियों द्वारा कार्यस्थल का सतत् निरीक्षण किया जाए और क्षेत्र में ही रात्रि प्रवास किया जाए। प्रत्येक मुख्य अभियन्ता द्वारा अपने कार्यांे के प्राथमिकता के 10 बिन्दुओं को चिहिन्त कर लिया जाए और उन पर अधीनस्थ अधिकारियों के साथ समीक्षा की जाए। समस्त अधिकारी/कर्मचारी अपने-अपने मुख्यालय पर/कार्य क्षेत्र में ही अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करे। बाढ़ के समस्त संवेदनशील स्थलों पर अवर अभियन्ताओं की ड्यूटी लगायी जाए। उन्होंने निर्देश दिया कि तटबन्धों के समस्त अनुरक्षण के कार्य तत्काल प्रारम्भ कर समय से पूर्ण कर लिए जाए। बाढ़ कार्यों में मानको से कोई समझौता न किया जाए। बाढ़ के समस्त कार्य 15 जून से पूर्व पूर्ण कर लिये जाये।

जल शक्ति मंत्री ने निर्देश दिया कि बाढ़ कार्य से सम्बन्धित समस्त अधिशासी अभियन्ता अपने-अपने जनपदों में बाढ़ गु्रप बनाकर सूचनाओं का आदान-प्रदान करे। डेªजिंग की बालू की नीलामी समय से की जाए एवं 15 जून से पूर्व स्थल से बालू को हटा  लिया जाए। परियोजना स्थल पर कैमरों की संख्या बढ़ायी जाये और स्थलों की नियमित निगरानी की जाए। बाढ़ बचाव से सम्बन्धित समस्त कार्यों में अपेक्षित तेजी लायी जाए और स्थल पर श्रमिकों की संख्या बढ़ाकर गति प्रदान की जाए। उन्होंने निर्देश दिया कि समस्त अधिशासी अभियन्ता जिला प्रशासन से समन्वय बनाये रखें तथा निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन किया जाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...