अखिलेश यादव ने खुदकुशी करने वाली महिला दरोगा के परिजनों से की मुलाकात

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2022   08:06
अखिलेश यादव ने खुदकुशी करने वाली महिला दरोगा के परिजनों से की मुलाकात
Ani

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गत शुक्रवार को अमेठी स्थित सरकारी आवास में फंदे से लटकी पायी गयीं पुलिस उपनिरीक्षक रश्मि यादव के लखनऊ स्थित आवास पर जाकर उनके परिजन से मुलाकात की और शोक जताया।

लखनऊ। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गत शुक्रवार को अमेठी स्थित सरकारी आवास में फंदे से लटकी पायी गयीं पुलिस उपनिरीक्षक रश्मि यादव के लखनऊ स्थित आवास पर जाकर उनके परिजन से मुलाकात की और शोक जताया। दरोगा ने फंदा लगाकर कथित रूप से खुदकुशी कर ली थी।

इसे भी पढ़ें: ‘आप’ ने भाजपा की ‘बुलडोजर राजनीति’ के खिलाफ दिल्ली में मार्च किया

सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने बताया कि अखिलेश रविवार को लखनऊ में गोसाईंगज क्षेत्र के मलौली गांव स्थित रश्मि यादव के घर पहुंचे और उनके परिजन से मिलकर शोक जताया और संवेदना व्यक्त की।

इसे भी पढ़ें: जयशंकर ने अर्जेटीना के विदेश मंत्री के साथ बातचीत की

अमेठी जिले के मोहनगंज थाने में तैनात दरोगा और महिला हेल्पडेस्क प्रभारी रश्मि यादव का शव संदिग्ध परिस्थितियों में थाना परिसर में बने सरकारी आवास के कमरे में फंदे से लटका मिला था। हालांकि रश्मि के पिता ने हत्या किये जाने का आरोप लगाया है। अखिलेश ने बाद में संवाददाताओं से कहा कि जित तरह से महिला दरोगा का तथाकथित ऊंची जाति के अधिकारियों द्वारा उत्पीड़न किया गया, वह दुःखद और निंदनीय है।

उन्होंने कहा कि न्यायालय इसका तत्काल संज्ञान ले और दोषियों को निलंबित कर जांच कराये। अखिलेश ने कहा कि रश्मि को न्याय दिलाने के लिये सपा विधानसभा में सवाल उठायेगी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि समाजवादी पार्टी पीड़ित परिवार को विधिक मदद देगी।उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने कानून-व्यवस्था का सारा ढांचा बर्बाद कर दिया है। सपा प्रमुख ने कहा कि पुलिस दबाव में काम कर रही है और राजनीतिक फायदे के लिए इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।