दुनिया के सबसे ज्यादा ट्रैफिक वाले शहरों में भारत के 3 शहर, मुंबई को मिला दूसरा स्थान

  •  अनुराग गुप्ता
  •  जनवरी 14, 2021   16:36
  • Like
दुनिया के सबसे ज्यादा ट्रैफिक वाले शहरों में भारत के 3 शहर, मुंबई को मिला दूसरा स्थान

कोरोना वायरस महामारी के फैलने के बाद सड़कों पर ट्रैफिक ना के बराबर हो गया था लेकिन अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही धीरे-धीरे सड़कों की तरफ ट्रैफिक बढ़ने लगा और अब तो स्थिति ऐसी है कि टॉप-10 सबसे ज्यादा भीड़भाड़ वाले शहरों में भारत के चार प्रमुख शहर शामिल हैं।

नयी दिल्ली। दिल्ली, मुबंई, बेंगलुरू और पुणे का ट्रैफिक बाकी देशों को टक्कर दे रहा है। यहां सुबह से लेकर शाम तक लगने वाले ट्रैफिक की चर्चा अब दुनियाभर में हो रही है। हालांकि, भारत समेत दुनिया के तमाम देश ट्रैफिक की समस्या का सामना कर रहे हैं। जैसे-जैसे आबादी बढ़ती जा रही है, ठीक वैसे-वैसे ट्रैफिक भी अपने पांव पसार रहा है। अब तो स्थिति वापस कोरोना महामारी के पहले वाली हो गई है। 

इसे भी पढ़ें: नये साल के लिए ट्रैफिक गाइडलाइन्स जारी, बिना पास के कनॉट प्लेस में वाहनों को नहीं मिलेगी एंट्री 

कोरोना वायरस महामारी के फैलने के बाद सड़कों पर ट्रैफिक ना के बराबर हो गया था लेकिन अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही धीरे-धीरे सड़कों की तरफ ट्रैफिक बढ़ने लगा और अब तो स्थिति ऐसी है कि टॉप-10 सबसे ज्यादा भीड़भाड़ वाले शहरों में भारत के चार प्रमुख शहर शामिल हैं। जबकि ट्रैफिक से प्रभावित दुनिया के शीर्ष 20 शहरों की सूची में भारत का भी योगदान है।

अंग्रेजी समाचार पत्र द टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक अर्बन मोबिलिटी के क्षेत्र में काम करने वाली स्वायत्त संस्था और लोकेशन टेक्नॉलजी एक्सपर्ट टॉमटॉम के एक ताजा सर्वे के नतीजों के अनुसार सबसे भीड़भाड़ वाले वैश्विक शहरों की सूची में मुंबई को दूसरे स्थान पर, बेंगलुरू छठे पर, दिल्ली आठवें पर और पुणे 16वें स्थान पर है। बता दें कि हर साल लोकेशन टेक्नॉलजी एक्सपर्ट टॉमटॉम दुनिया के शहरों के ट्रैफिक और भीड़भाड़ का आंकलन करती है। 

इसे भी पढ़ें: किसानों ने नोएडा-दिल्ली मार्ग पर चिल्ला बॉर्डर को किया अवरुद्ध, पुलिस अधिकारी रास्ता खुलवाने का कर रहे प्रयास 

टॉमटॉम ट्रैफिक इंडेक्स के मुताबिक साल 2020 में दुनिया का सबसे भीड़भाड़ वाला शहर मॉस्को था। कंपनी टॉमटॉम ने 56 देशों के 416 शहरों के ट्रैफिक और भीड़भाड़ को लेकर बुधवार को एक वार्षिक रिपोर्ट पेश की है। जिसमें पहले स्थान पर मॉस्को, दूसरे पर मुंबई, तीसरे पर बोगोटा, चौथे पर मनिला और पांचवे स्थान पर इस्तांबुल शामिल हैं।

रिपोर्ट में बताया गया कि मुंबई में समग्र भीड़ का स्तर 53 फीसदी था जो 2019 की तुलना में 12 फीसदी कम रहा। इसी तरह बेंगलुरु में 20 फीसदी की गिरावट देखी गई। जबकि दिल्ली में बमुश्किल 9 फीसदी की ही गिरावट दर्ज की गई और पुणे ने पिछले साल की तुलना में ट्रैफिक में 17 फीसदी की गिरावट देखी है। 

इसे भी पढ़ें: सिंघू बॉर्डर पर लगा कूड़े का अंबार, किसानों ने कहा- ज्यादातर सफाई खुद ही कर रहे 

रिपोर्ट में बताया गया कि लॉकडाउन की वजह से मुंबई में अप्रैल में सड़कों पर ट्रैफिक शून्य था लेकिन जून धीरे-धीरे बढ़ना शुरू हुआ और यह लगातार बढ़ता ही चला गया है। टॉमटॉम के प्रबंधक पराग बेदारकर ने बताया कि ट्रैफिक के ट्रेंड को देखकर लगता है कि मुंबई में आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह से शुरू हो गई हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


ममता बनर्जी का आरोप, भाजपा ने जय श्रीराम का नारा लगाकर नेताजी का अपमान किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   16:49
  • Like
ममता बनर्जी का आरोप, भाजपा ने  जय श्रीराम  का नारा लगाकर नेताजी का अपमान किया

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधा और उस पर एक कार्यक्रम में जय श्रीराम का नारा लगाकर नेताजी सुभाष चंद्र बोस का अपमान करने का आरोप लगाया।

पुर्सुरा (पश्चिम बंगाल)। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधा और उस पर एक कार्यक्रम में जय श्रीराम का नारा लगाकर नेताजी सुभाष चंद्र बोस का अपमान करने का आरोप लगाया। यह कार्यक्रम बोस की 125वीं जयंती के मौके पर आयोजित किया गया था। भाजपा को बाहरी लोगों का समूह और भारत जलाओ पार्टी बताते हुए बनर्जी ने कहा कि भाजपा लगातार बंगाल की महान शख्सियतों का अपमान कर रही है और नेताजी भी ‘‘इस फहरिस्त में शामिल हो गए हैं।’’ तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने यहां एक रैली में कहा, ‘‘क्या आप किसी को अपने घर बुलाकर उसका अपमान करेंगे? क्या यह बंगाल या हमारे देश की संस्कृति है? अगर नेताजी के लिए नारे लगाए जाते तो मुझे कोई परेशानी नहीं होती।’’

इसे भी पढ़ें: भाजपा विधायक की विवादित टिप्पणी, ममता बनर्जी को 'राक्षसी' संस्कृति का बताया, कहा- उनके DNA में दोष है

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। मेरा उपहास उड़ाने के लिए उन्होंने नारे लगाए जिनका कार्यक्रम से कोई संबंध नहीं था। देश के प्रधानमंत्री के सामने मेरा अपमान किया गया। यह उनकी (भाजपा) संस्कृति है।’’ सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर शनिवार को आयोजित एक सरकारी कार्यक्रम में जय श्रीराम के नारे लगाए जाने के बाद बनर्जी ने कार्यक्रम को संबोधित नहीं किया था। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल थे।

इसे भी पढ़ें: बंगाल चुनाव को लेकर जितिन प्रसाद TMC और BJP पर साधा निशान, बोले- दोनों दल अहम की लड़ाई लड़ रहे हैं

दल बदलुओं को विश्वासघाती बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस का साथ छोड़ने वाले नेताओं को फिर कभी पार्टी में वापस नहीं लिया जाएगा। बनर्जी ने कहा, ‘‘जो (पार्टी) छोड़कर गए हैं, उन्हें पता था कि उन्हें आगामी चुनाव में टिकट नहीं मिलने वाला है। यह अच्छा है कि वे चले गए अन्यथा हम उन्हें निकाल देते.... जो पार्टी छोड़ना चाहते हैं, उन्हें जल्द से जल्द पार्टी छोड़ देनी चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


किसानों के प्रदर्शन पर नाटक कर रहे हैं कुछ राजनीतिक दल: फडणवीस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   16:45
  • Like
किसानों के प्रदर्शन पर नाटक कर रहे हैं कुछ राजनीतिक दल: फडणवीस

फडणवीस ने भाजपा के कई कार्यकर्ताओं के साथ भंडारा में विभिन्न मुद्दों को लेकर प्रदर्शन भी किया। प्रदर्शन से पहले उन्होंने पत्रकारों से कहा कि वह भंडारा के अस्पताल में पिछले महीने आग लगने से 10 बच्चों की मौत के मामले के संबंध में राज्य सरकार की ‘‘असंवेदनशील’’ रवैये के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

नागपुर (महाराष्ट्र)। भाजपा के वरिष्ठ नेता देवेन्द्र फडणवीस ने सोमवार को आरोप लगाया कि कुछ राजनीतिक पार्टियां केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन को लेकर ‘‘नाटक’’ कर रही हैं और गलत जानकारियां फैला रही हैं। मुम्बई में किसानों द्वारा आयोजित की गई रैली का राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस द्वारा समर्थन करने के बाद उन्होंने यह बयान दिया है। महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता फडणवीस ने पत्रकारों से बात करते हुए दावा किया कि पूर्ववर्ती कांग्रेस-राकांपा सरकार ने ही अनुबंध कृषि और कृषि उत्पादों की सीधी खरीद की अनुमति दी थी। उन्होंने कहा कि कृषि कानून पारित हुए काफी समय हो गया है और महाराष्ट्र में भी तक ऐसा कोई प्रदर्शन नहीं हुआ।

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया, ‘‘ कुछ राजनीतिक दल जानबूझकर अब नाटक कर रहे हैं और गलत जानकारियां फैला कर किसानों को गुमराह कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ मेरे पास इन मोर्चों का समर्थन करने वाली पार्टियों के लिए एक सवाल है कि कांग्रेस ने अपने 2019 के चुनाव घोषणापत्र में यह क्यों कहा था कि अगर वह सत्ता में आई तो वह बाजार समितियों को निलंबित कर देगी।’’ फडणवीस ने पूछा, ‘‘ कांग्रेस और राकांपा को जवाब देने चाहिए कि उन्होंने 2006 में अनुबंध खेती अधिनियम को मंजूरी क्यों दी? उन्हें महाराष्ट्र में इस कानून से कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन वे केन्द्र में इसे नहीं चाहते। यह ड्रामा क्यों?’’ 

इसे भी पढ़ें: लोकप्रियता हासिल करने के लिए मुंबई में निकाली जा रही किसान रैली: रामदास आठवले

उन्होंने यह भी दावा किया कि किसानों की उपज की सीधी खरीद के लिए पिछले कांग्रेस-राकांपा शासन ने 29 लाइसेंस जारी किए गए थे। इस बीच, फडणवीस ने भाजपा के कई कार्यकर्ताओं के साथ भंडारा में विभिन्न मुद्दों को लेकर प्रदर्शन भी किया। प्रदर्शन से पहले उन्होंने पत्रकारों से कहा कि वह भंडारा के अस्पताल में पिछले महीने आग लगने से 10 बच्चों की मौत के मामले के संबंध में राज्य सरकार की ‘‘असंवेदनशील’’ रवैये के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने भंडारा में धान की खरीद के दौरान ‘‘व्यापक भ्रष्टाचार’’ का भी आरोप लगाया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


प्रधानमंत्री की गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक असमानता बढ़ी: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   16:30
  • Like
प्रधानमंत्री की गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक असमानता बढ़ी: कांग्रेस

गरीबी उन्मूलन के लिए काम करने वाली संस्था ‘ऑक्सफैम’ ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी के चलते लगाए गए लॉकडाउन के दौरान भारतीय अरबपतियों की संपत्ति 35 प्रतिशत बढ़ गई, जबकि इस दौरान करोड़ों लोगों के लिए आजीविका का संकट पैदा हो गया।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने ‘ऑक्सफैम’ की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए सोमवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘गलत नीतियों एवं प्राथमिकताओं’ के कारण देश में आर्थिक असमानता बढ़ी है। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया, ‘‘मोदी जी की ग़लत नीतियों और प्राथमिकताओं से देश में आर्थिक असमानता बढ़ी है। ऑक्सफैम की नयी रिपोर्ट के अनुसार मोदी जी के मित्रों व देश के सबसे अमीर अरबपतियों की संपत्ति 35 प्रतिशत बढ़ी, वहीं अप्रैल में हर घंटे 1.7 लाख लोगों ने अपनी नौकरी खोई !’’

उल्लेखनीय है कि गरीबी उन्मूलन के लिए काम करने वाली संस्था ‘ऑक्सफैम’ ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी के चलते लगाए गए लॉकडाउन के दौरान भारतीय अरबपतियों की संपत्ति 35 प्रतिशत बढ़ गई, जबकि इस दौरान करोड़ों लोगों के लिए आजीविका का संकट पैदा हो गया। ऑक्सफैम की रिपोर्ट ‘इनइक्वलिटी वायरस’ में कहा गया, ‘‘मार्च 2020 के बाद की अवधि में भारत में 100 अरबपतियों की संपत्ति में 12,97,822 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई है। इतनी राशि का वितरण यदि देश के 13.8 करोड़ सबसे गरीब लोगों में किया जाए, तो इनमें से प्रत्येक को 94,045 रुपये दिए जा सकते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept