आयरलैंड से 3 लोग जांजगीर आए, न क्वारंटाइन हुए, न जांच कराई, शादी समारोह में गए, अब एक ही परिवार के 6 संक्रमित

आयरलैंड से 3 लोग जांजगीर आए, न क्वारंटाइन हुए, न जांच कराई, शादी समारोह में गए, अब एक ही परिवार के 6 संक्रमित

CMHO डॉक्टर एसआर बंजारे के अनुसार तीनों जांजगीर में शादी समारोह में शामिल हुए थे। वे आयरलैंड से निकले तो उनका टेस्ट नहीं हुआ। दिल्ली और रायपुर एयरपोर्ट में जांच नहीं की गई। नागपुर कलेक्टर को चिठ्ठी लिखी है।

छत्तीसगढ़। कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को लेकर सरकार गंभीर है। विदेशी दौरे से आने वालों पर खास नजर रखने के निर्देश हैं। बावजूद इसके विभाग और लोगों की लापरवाही जारी है। आयरलैंड से दंपति सहित 3 लोग छत्तीसगढ़ के जांजगीर पहुंचे। यहां 15 दिन रुके, शादी समारोह में भी शामिल हुए, लेकिन न तो जांच कराई, न क्वारैंटाइन हुए और न ही प्रशासन को सूचना दी। अब उनके संपर्क में आए 6 एक ही परिवार के 6 लोग संक्रमित मिले हैं।

इसे भी पढ़ें: पुडुचेरी में कोरोना वायरस के 33 नए मामले, संक्रमितों की संख्या 38,000 के पार हुई

जब तीनों जांजगीर से लौट गए तो जिला प्रशासन को इसकी सूचना मिली। इसके बाद शादी समारोह में शामिल कांटेक्ट ट्रेसिंग के आधार पर 32 लोगों के सैंपल लिए गए। इनमें संक्रमित मिले 6 लोगों को रायपुर एम्स में भर्ती कराया गया है। उनके सैंपल जांच के लिए पुणे की लैब में भेजे गए हैं। CMHO डॉक्टर एसआर बंजारे के अनुसार, आयरलैंड से आए लोगों के नागपुर में होने की सूचना है। इसके बाद वहां के प्रशासन को कार्रवाई के लिए लिखा गया है।

कोविड प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया, एयरपोर्ट पर भी नहीं हुई जांच

जानकारी के मुताबिक, आयरलैंड से तीनों 29 नवंबर को जांजगीर पहुंचे थे। उन्होंने कोविड प्रोटोकाल का पालन नहीं किया। सार्वजनिक विवाह कार्यक्रम में शामिल हुए और 12 दिसंबर तक रुके। अगले दिन नागपुर चले गए। CMHO डॉक्टर एसआर बंजारे के अनुसार तीनों जांजगीर में शादी समारोह में शामिल हुए थे। वे आयरलैंड से निकले तो उनका टेस्ट नहीं हुआ। दिल्ली और रायपुर एयरपोर्ट में जांच नहीं की गई। नागपुर कलेक्टर को चिठ्ठी लिखी है।

इसे भी पढ़ें: कोरोना कवच से लेकर कोरोना रक्षक जैसे बीमा उत्पादों को बढ़ावा देगा IRDAI

जांजगीर के कोविड अस्पताल खाली, फिर भी एम्स क्यों?

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आयरलैंड से आए लोगों के जाने के बाद वार्ड 13 में रहने वाले लोगों के सैंपल लिए। जांच में 6 लोग संक्रमित मिले। उन्हें रायपुर एम्स में भर्ती कराया गया। जबकि जिले में 11 कोविड केयर सेंटर हैं और उनमें बेड भी खाली हैं। दरअसल, इसके पीछे राज्य सरकार के निर्देश हैं। जिसमें कहा गया है कि, विदेश से लौटे लोगों के संपर्क में आए लोगों को एम्स में ही भर्ती कराया जाए। उनके सैंपल पुणे भेजे जाएं, जिससे नए संक्रमण की जांच हो सके।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।