ओवैसी ने योगी आदित्यनाथ पर साधा निशाना, कहा- UP में 4 लाख तीव्र कुपोषित हैं बच्चे, डॉक्टरों के हजारों पद खाली

ओवैसी ने योगी आदित्यनाथ पर साधा निशाना, कहा- UP में 4 लाख तीव्र कुपोषित हैं बच्चे, डॉक्टरों के हजारों पद खाली

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि प्रदेश में 4 लाख तीव्र कुपोषित बच्चे हैं। हजारों में डॉक्टरों के पद खाली हैं। पब्लिक हेल्थ सेंटर और कम्युनिटी हेल्थ सेंटर बंद पड़े हैं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों ने तैयारियां शुरू कर दी है। ऐसे में एआईएमआईएम के असदुद्दीन ओवैसी भी उत्तर प्रदेश को फतह करने का सपना देख रहे हैं। इसी बीच उन्होंने प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में 4 लाख तीव्र कुपोषित बच्चे हैं। हजारों में डॉक्टरों के पद खाली हैं। 

इसे भी पढ़ें: यूपी में मुस्लिम वोटों के लिए सपा-बसपा-ओवैसी सब बेचैन 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुतादिक असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि प्रदेश में 4 लाख तीव्र कुपोषित बच्चे हैं। हजारों में डॉक्टरों के पद खाली हैं। पब्लिक हेल्थ सेंटर और कम्युनिटी हेल्थ सेंटर बंद पड़े हैं। एक-एक चीज़ का जवाब (योगी आदित्यनाथ) दें। इसी बीच उन्होंने असम-मिजोरम सीमा विवाद को लेकर केंद्र सरकार को घेरने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह के जाने के बाद असम और मिज़ोरम की पुलिस पर फायरिंग होती है। ये सरासर बीजेपी की नाकामी है। 

इसे भी पढ़ें: क्या मोदी सरकार ने जासूसी सॉफ्टवेयर खरीदा है या नहीं, इसकी जानकारी दे: असदुद्दीन ओवैसी 

गौरतलब है कि सरकार ने गुरुवार को कहा था कि देश में छह माह से छह साल की उम्र के 9 लाख से अधिक अत्यंत कुपोषित बच्चों की पहचान की गई है जिनमें से 3,98,359 बच्चे उत्तर प्रदेश के हैं। महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था कि देशभर में 9,27,606 ऐसे बच्चों की पहचान की गई है जो अत्यंत कुपोषित हैं और जिनकी उम्र छह माह से छह साल के बीच है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।