EC ने विधानसभा चुनावों को लेकर जारी पाबंदियों में दी ढील, रैलियों और रोड शो के लिए 50% की लिमिट को हटाया

EC ने विधानसभा चुनावों को लेकर जारी पाबंदियों में दी ढील, रैलियों और रोड शो के लिए 50% की लिमिट को हटाया
प्रतिरूप फोटो

निर्वाचन आयोग ने बताया कि राजनीतिक दलों, उम्मीदवारों की बैठकों, रैलियों, रोड शो के लिए 50 फीसदी क्षमता की पाबंदी को अब हटा दिया गया है। ज़िला अधिकारियों की पूर्व अनुमति और एसडीएमए नियमों के अधीन रोड शो की अनुमति दी जाएगी। चुनाव प्रचार से संबंधित अन्य मौजूदा प्रावधान जारी रहेंगे।

नयी दिल्ली। भारत निर्वाचन आयोग ने विधानसभा चुनाव को लेकर जारी पाबंदियों में और भी ज्यादा ढील देने का फैसला किया है। आपको बता दें कि निर्वाचन आयोग ने राजनीतिक दलों, उम्मीदवारों की बैठकों, रैलियों, रोड शो के लिए 50% क्षमता की पाबंदी को अब हटा दिया है। दरअसल, कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए निर्वाचन आयोग ने पांच राज्यों में होने वाली चुनावी रैलियों, सभाओं इत्यादि के लिए सख्त नियम जारी किए थे लेकिन उन्हें क्रमबद्ध तरीके से धीरे-धीरे कम कर दिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: UP Election 2022 । मायावती का आरोप, दलित विरोधी हैं भाजपा, सपा और कांग्रेस 

आपको बता दें कि उत्तराखंड, गोवा और पंजाब में चुनाव संपन्न हो चुके हैं। जबकि उत्तर प्रदेश और मणिपुर में चुनावी घमासान जारी है। उत्तर प्रदेश में तीन चरण के मतदान संपन्न हुए हैं। जबकि चौथे चरण की 59 सीटों के लिए बुधवार को मतदान होगा। इसी बीच निर्वाचन आयोग ने राजनीतिक दलों को बड़ी राहत दे दी है। निर्वाचन आयोग ने साफ कर दिया है कि जिला अधिकारियों की पूर्व अनुमति से रोड शो की इजाजत होगी। 

इसे भी पढ़ें: अखिलेश बोले- लोकतंत्र बचाने का चुनाव है उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, निर्वाचन आयोग ने बताया कि राजनीतिक दलों, उम्मीदवारों की बैठकों, रैलियों, रोड शो के लिए 50 फीसदी क्षमता की पाबंदी को अब हटा दिया गया है। ज़िला अधिकारियों की पूर्व अनुमति और एसडीएमए नियमों के अधीन रोड शो की अनुमति दी जाएगी। चुनाव प्रचार से संबंधित अन्य मौजूदा प्रावधान जारी रहेंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।