भाजपा की नीतियों के चलते ठगा हुआ महसूस कर रहे किसान: अखिलेश यादव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2019   08:54
भाजपा की नीतियों के चलते ठगा हुआ महसूस कर रहे किसान: अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने किया कि भाजपा सरकार की ‘कुनीतियों’ के चलते न केवल लोग दहशत में हैं अपितु किसान भी अपने को अपमानित तथा ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि केन्द्र सरकार की किसानों को 6 हजार रूपए प्रतिवर्ष मदद देने की घोषणा उनके साथ धोखा है। इससे किसान को 17 रूपए प्रतिदिन मिलेगा, जबकि न्यूनतम मजदूरी 150 रूपए है। रविवार शाम जारी एक बयान में अखिलेश ने दावा किया कि भाजपा सरकार की ‘कुनीतियों’ के चलते न केवल लोग दहशत में हैं अपितु किसान भी अपने को अपमानित तथा ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। खेती का लागत मूल्य लगातार बढ़ रहा है।

इसे भी पढ़ें: पूर्व की सरकारों में किसान का भला करने की नहीं थी नीयत: मोदी

उन्होंने कहा कि आज हमारा किसान बड़े पैमाने पर सरसों पैदा कर रहा है लेकिन सवाल यह है कि क्या उसे फसल का उचित मूल्य मिल सकेगा? केन्द्र विदेशों से तेल मंगा रहा है तो प्रदेश का किसान क्या सही कीमत पाएगा? आलू किसान को कुछ नहीं मिला? मक्का किसान खरीद केन्द्र ढूंढता रह गया। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार ने किसानों को 6 हजार रूपए प्रतिवर्ष मदद देने की जो घोषणा की है वह किसानों के साथ धोखा है। इस तरह तो किसान को 17 रूपए प्रतिदिन मिलेगा जबकि न्यूनतम मजदूरी 150 रूपए है। यह किसान के साथ छलावा और उसके सम्मान के साथ खिलवाड़ है।

इसे भी पढ़ें: किसानों की फसल पद्धति में बदलाव चाहते हैं नितिन गडकरी

भाजपा सरकारों की न तो प्रशासन और किसानों की आय बढ़ाने में कोई रुचि है और नहीं उसके पास विकास की कोई दृष्टि नहीं है। जब तक देश की नीति नहीं बनेगी तब तक खेती और खेती से जुड़े कारोबार से फायदा नहीं होगा। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान देश का अन्नदाता है। आज वह सरकार की नीतियों की वजह से कर्ज और सूद में जकड़ा हुआ है। अभी झांसी में एक किसान ने आत्महत्या कर ली। किसान का संकट राष्ट्रीय संकट है। इसका समाधान होना चाहिए। वैसे भी किसान अब भाजपा की नीति और नीयत से बखूबी वाकिफ हो चुका है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...