मध्य प्रदेश में कोरोना के 789 नए मामले, संक्रमितों की संख्या पहुंची 28,000 के पार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 27, 2020   21:26
मध्य प्रदेश में कोरोना के 789 नए मामले, संक्रमितों की संख्या पहुंची 28,000 के पार

पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से जबलपुर एवं रीवा में दो-दो और भोपाल, ग्वालियर, बड़वानी, सिंगरौली एवं अशोकनगर में एक-एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है।

भोपाल। मध्य प्रदेश में सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 789 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित पाये गये लोगों की कुल संख्या 28,589 तक पहुंच गयी। राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से नौ और व्यक्तियों की मौत की पुष्टि हुई है जिससे मृतकों की संख्या 820 हो गयी है। राज्य के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से जबलपुर एवं रीवा में दो-दो और भोपाल, ग्वालियर, बड़वानी, सिंगरौली एवं अशोकनगर में एक-एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है।’’

उन्होंने बताया, ‘‘राज्य में अब तक कोरोना वायरस से सबसे अधिक 304 मौत इन्दौर में हुई है। भोपाल में 159, उज्जैन में 72, सागर में 32, जबलपुर में 26, बुरहानपुर में 23, खंडवा में 19 एवं खरगोन में 17 लोगों की मौत हुई है। बाकी मौतें अन्य जिलों में हुई हैं।’’ अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में सोमवार को कोविड-19 के सबसे अधिक 189 नये मामले भोपाल जिले में आये हैं, जबकि इंदौर में 127,ग्वालियर में 59, दमोह में 31, जबलपुर में 28 एवं बड़वानी में 27 नये मामले आये। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश कांग्रेस में युवाओं का नेतृत्व करेगें पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के पुत्र नकुल नाथ

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल 28,589 संक्रमितों में से अब तक 19,791 मरीज स्वस्थ होकर घर चले गये हैं और 7,978 मरीजों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। उन्होंने कहा कि सोमवार को 659 रोगियों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। अधिकारी ने बताया कि वर्तमान में राज्य में कुल 3,076 निषिद्ध क्षेत्र हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।