गुजरात के दाहोद में डांट का बदला लेने के लिए एक व्यक्ति ने पड़ोसी के बेटों की हत्या की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 13, 2022   16:00
गुजरात के दाहोद में डांट का बदला लेने के लिए एक व्यक्ति ने पड़ोसी के बेटों की हत्या की
prabhasakshi

गुजरात के दाहोद में 10 वर्षीय एक लड़के एवं उसके पांच वर्षीय भाई की एक पड़ोसी ने कथित रूप से हत्या कर दी। कुछ समय पहले ही इन बच्चों के घरवालों ने उसे (इस पड़ोसी को) डांटा था। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

दाहोद (गुजरात)। गुजरात के दाहोद में 10 वर्षीय एक लड़के एवं उसके पांच वर्षीय भाई की एक पड़ोसी ने कथित रूप से हत्या कर दी। कुछ समय पहले ही इन बच्चों के घरवालों ने उसे (इस पड़ोसी को) डांटा था। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। धानपुर थाने के उपनिरीक्षक डी. एम. पटेल ने बताया कि धानपुर तालुका के कांटू गांव में दिलीप बामनिया और उसके छोटे भाई राहुल की 10 मई की रात को कथित रूप से हत्या करने को लेकर राजेश मोहनिया (45) को गिरफ्तार किया गया है।

इसे भी पढ़ें: हिंसा के दौरान श्रीलंका के सांसद की मौत खुदकुशी नहीं बेरहमी से कत्ल है: पुलिस

पटेल के अनुसार करीब दस दिन पहले मोहनिया ने पड़ोसी नरवत बामनिया की बड़ी बेटी को समीप की दुकान से गुटखा लाने को कहा था तथा जब उसने ऐसा करने से मना कर दिया था तब मोहनिया ने उसे गालियां दी थी। उपनिरीक्षक ने कहा, ‘‘ लड़की की मां ने मोहनिया को उसके इस आचरण को लेकर डांटा था। हमें पता चला कि झगड़े के दौरान उसने उसे थप्पड़ भी मारा था।’’

इसे भी पढ़ें: Jayeshbhai Jordaar Review | जयेशभाई जोरदार निकले फुस, नहीं आयी हंसी न मिली कोई सामाजिक सीख

उन्होंने बताया कि ‘अपमान’ का बदला लेने के लिए मोहनिया ने 10 मई को रात आठ बजे दिलीप और उसके छोटे भाई को अपने साथ आने के लिए राजी किया। दोनों बच्चे उस वक्त अपने घर के समीप खेल रहे थे। पटेल ने कहा, ‘‘ सुरक्षागार्ड की नौकरी करने वाले आरोपी ने बच्चों को बिस्किट का लालच दिया और उन्हें अपने साथ मोटरसाइकिल पर ले गया। उसने उन दोनों का गला घोंट दिया एवं उनके शव फेंक दिए। पुलिस ने बृहस्पतिवार को सघन तलाशी के बाद दोनों बच्चों के शव बरामद कर लिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।