BHU परिसर में चाय विक्रेता की हत्या, शव के पास कई घंटो तक बैठा रहा मोर

BHU परिसर में चाय विक्रेता की हत्या, शव के पास कई घंटो तक बैठा रहा मोर

पुलिस को मौके से शराब की दो खाली बोतलें मिली है। घटना की सूचना मिलते हीशहर के पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार सिंह मौके पर फारेंसिक टीम के साथ पहुंचे। इंस्पेक्टर भारत भूषण ने बताया कि परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरे की दृश्यता कम होने के कारण यह वारदात कैद नहीं हो पाई।

वाराणसी। बीएचयू परिसर में मंगलवार को बदमाशों ने चाय बेचने वाले एक व्यक्ति की पत्थर से सिर कुचलकर हत्या कर दी। आयुर्वेद संकाय में स्थित उसकी दुकान के पास ही उसका शव मिला है। गोरखपुर के मूल निवासी राम साहनी उर्फ रामू (65) पिछले 25 वर्षों से परिसर में चाय की दुकान चलाते थे। यह दुकान बीएचयू से उन्हें आवंटित हुई थी। रात को दुकान बंद कर वह बाहर ही सो गए थे। लंका थाने के इंस्पेक्टर भारत भूषण ने बताया कि रामू पिछले कई वर्षों से लंका थाने के रमना गांव में रह रहे थे और वहीं पर उनके बच्चे रहते हैं। वह रात को दुकान पर ही रुक जाते थे। खाना घर से आ जाता था।

इसे भी पढ़ें: अनुच्छेद 370 और मॉब लिंचिंग पर भागवत ने विदेशी मीडिया से संघ के रुख को किया साझा

पुलिस को मौके से शराब की दो खाली बोतलें मिली है। घटना की सूचना मिलते हीशहर के पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार सिंह मौके पर फारेंसिक टीम के साथ पहुंचे। इंस्पेक्टर भारत भूषण ने बताया कि परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरे की दृश्यता कम होने के कारण यह वारदात कैद नहीं हो पाई। पुलिस ने घटना स्थल से ईंट बरामद की है। इस संबध में अज्ञात बदमाशों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

मौत हो गई पर मोर ने नहीं छोड़ा साथ

इंसान हो या जानवर हर किसी के साथ एक भावनात्मक लगाव होता है। जब आप किसी को अपनाते हैं तो उससे एक लगाव हो जाता है और फिर हर कोई इस प्यार और रिश्तों को समझने लगता है और उसे निभाता भी है। ऐसा ही कुछ वाराणसी के काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में देखने को मिला है। बीएचयू में एक चाय वाले की पत्थर से सिर कुचलकर हत्या करने के बाद उसके शव के पास एक मोर आकर बैठ गया। यह मोर चाय वाले का पालतू पक्षी था। पुलिस के बार-बार डंडा पटकने के बावजूद वह मोर अपनी जगह से नहीं हटा। 

इसे भी पढ़ें: भावी पीढ़ियों के लिये स्वच्छ पेयजल सुनिश्चित करने को सभी पक्ष साथ आएं: राष्ट्रपति कोविंद

अपने मालिक को मरा देख रामू का पालतू मोर चारपाई के पास सुबह से वहीं बैठा रहा। मालिक की मौत से दुखी मोर वहां देर तक बैठा रहा और पुलिस के कई बार डंडा पटकने के बावजूद मोर पर कोई असर नहीं हुआ। मोर अपनी जगह से तब उड़ा जब उसके मालिक के शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

बता दें कि रामू को जानवरों से काफी लगाव था और अक्सर वह पशु-पक्षियों को ब्रेड और नमकीन खिलाया करते थे। यहां तक कि दाना-पानी के लिए भी पशु-पक्षी रामू की दुकान पर ही आया करते थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।