कॉरपोरेट कर में करीब 10 प्रतिशत की कटौती से अर्थव्यवस्था को आवश्यक तेजी मिलेगी: गोयल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 20, 2019   14:28
कॉरपोरेट कर में करीब 10 प्रतिशत की कटौती से अर्थव्यवस्था को आवश्यक तेजी मिलेगी: गोयल

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने ये घोषणाएं करते हुए कहा कि इनसे सरकारी खजाने पर 1,45,000 करोड़ रुपये का बोझ आएगा। गोयल ने कहा कि राजस्व पर पड़ने वाले इस बोझ से कॉरपोरेट को लाभ होगा। उन्होंने आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिये कंपनियों द्वारा इन कदमों का लाभ उठाने की उम्मीद जाहिर की।

मुंबई। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को कहा कि कॉरपोरेट कर में करीब 10 प्रतिशत की कटौती से अर्थव्यवस्था को आवश्यक तेजी मिलेगी। गोयल ने यहां एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘कॉरपोरेट कर की दरें कम करने की वित्तमंत्री की घोषणाओं से अर्थव्यवस्था को वह आवश्यक तेजी मिलेगी, जिसकी उम्मीद हम सभी कर रहे हैं। हमने श्रृंखलाबद्ध तरीके से कई कदम उठाये हैं और आज का कदम इन सब में सबसे बड़ा है।’’ सरकार ने नरम पड़ती अर्थव्यवस्था को गति देने तथा निवेश एवं रोजगार सृजन को बढ़ावा देने के लिये शुक्रवार को कई घोषणाएं की। इनमें कॉरपोरेट कर की दरें करीब 10 प्रतिशत कम करना, एफपीआई के पूंजीगत लाभ पर अधिभार के रूप में लगने वाला धनाढ्य-कर वापस लेना, सीएसआर का दायरा बढ़ाना आदि शामिल है।

इसे भी पढ़ें: वित्त मंत्री के ऐलान के बाद झूमा बाजार, सेंसेक्स में 1615 उछाल, निफ्टी 11 हजार पार

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने ये घोषणाएं करते हुए कहा कि इनसे सरकारी खजाने पर 1,45,000 करोड़ रुपये का बोझ आएगा। गोयल ने कहा कि राजस्व पर पड़ने वाले इस बोझ से कॉरपोरेट को लाभ होगा। उन्होंने आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिये कंपनियों द्वारा इन कदमों का लाभ उठाने की उम्मीद जाहिर की। उन्होंने कहा कि इन कदमों से देश को निवेश के लिये बेहतर बनाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि कर को लेकर की गयी घोषणा से कोल इंडिया, इंफोसिस और विप्रो जैसी कंपनियों को फायदा होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।