दिल्ली सरकार के एक वीडियो के खिलाफ कार्रवाई की मांग, दिखाया जा रहा कोविड नियमों का उल्लंघन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 14, 2021   17:32
दिल्ली सरकार के एक वीडियो के खिलाफ कार्रवाई की मांग, दिखाया जा रहा कोविड नियमों का उल्लंघन

कोविड नियमों का उल्लंघन करते दिल्ली सरकार के प्रचार वीडियो के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है।दिल्ली के मुख्य सचिव विजय कुमार देव को लिखे पत्र में आयोग ने कहा कि उसे एक प्रचार वीडियो के खिलाफ शिकायत मिली है जिसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी दिखाई दे रहे हैं।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने बृहस्पतिवार को दिल्ली सरकार के एक प्रचार वीडियो के खिलाफ कार्रवाई की मांग की, जिसमें कथित तौर पर बिना मास्क पहने और भौतिक दूरी का पालन किये बगैर स्कूली बच्चों की एक बड़ी भीड़ को एक विज्ञापन की शूटिंग करते दिखाया गया है। आयोग ने भी कहा कि यह केंद्र के कोविड-19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन है और स्कूली बच्चों के जीवन को भी खतरे में डालता है। दिल्ली के मुख्य सचिव विजय कुमार देव को लिखे पत्र में आयोग ने कहा कि उसे एक प्रचार वीडियो के खिलाफ शिकायत मिली है जिसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी दिखाई दे रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: धरती से टकराने वाला है सौर तूफान, ठप हो जाएगा मोबाइल फोन और बिजली

एनसीपीसीआर ने कहा, उक्त प्रचार वीडियो में कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बीच स्कूली बच्चों की एक बड़ी भीड़ बिना मास्क पहने और भौतिक दूरी बनाए बगैर विज्ञापन के लिए शूटिंग करते दिख रही है। यह भारत सरकार द्वारा जारी किए गए कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन है और दिल्ली के नाबालिग स्कूली बच्चों का जीवन को खतरे में डालता है। आयोग ने कहा कि वीडियो किशोर न्याय अधिनियम, 2015 और कोविड-19 महामारी के मद्देनजर केंद्र द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का उल्लंघन है। बृहस्पतिवार को जारी पत्र में कहा गया है, मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए अनुरोध है कि इस मामले में कार्रवाई कर उसकी रिपोर्ट सात दिनों के भीतर आयोग के साथ साझा की जाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।