अतिरिक्त मुख्य सचिव ने चिड़ियाघरों में मूलभूत सुविधाएं जोड़ने का किया आह्वान

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने चिड़ियाघरों में मूलभूत सुविधाएं जोड़ने का किया आह्वान

निशा सिंह ने राज्य वन विभाग के वन्य जीव शाखा कार्यालयों और अधिकारियों के प्रयासों की सराहना करते हुए राज्य के सभी चिडि़याघरों में थियेटर, ऑडियो-वीडियो एड्स और बेहतर स्मारिका दुकान जैसी सार्वजनिक सुविधाएं प्रदान करने का आह्वान किया।

शिमला। हिमाचल प्रदेश चिड़ियाघर और संरक्षण प्रजनन समिति के गवर्निंग बोर्ड की एक बैठक आज यहां अतिरिक्त मुख्य सचिव, वन निशा सिंह की अध्यक्षता में आयोजित की गई।

निशा सिंह ने राज्य वन विभाग के वन्य जीव शाखा कार्यालयों और अधिकारियों के प्रयासों की सराहना करते हुए राज्य के सभी चिडि़याघरों में थियेटर, ऑडियो-वीडियो एड्स और बेहतर स्मारिका दुकान जैसी सार्वजनिक सुविधाएं प्रदान करने का आह्वान किया। उन्होंने प्रकृति आधारित पर्यटन को बढ़ावा देने और चिडि़याघरों में अधिक आगंतुकों को आकर्षित करने के लिए इन गतिविधियों को पर्यावरण पर्यटन के साथ जोड़ने पर भी बल दिया। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस कोरोना जैसे संवेदनशील मुद्दे का भी कर रही है राजनीतिकरण: जय राम ठाकुर 

प्रधान मुख्य वन अरण्यपाल, वन्य जीव अर्चना शर्मा ने बताया कि कुफरी चिडि़याघर में एक 3-डी थियेटर का कार्य पूरा होने वाला है जिसे बहुत जल्द शुरू किया जाएगा।

अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन अरण्यपाल और समिति के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अनिल ठाकुर ने राज्य के विभिन्न चिडि़याघरों, तीतरों और बंदर नसबंदी केंद्रों में समिति के द्वारा संचालित की जा रही विभिन्न गतिविधियों पर विस्तृत प्रस्तुति दी। उन्होंने एचपीजेडसीबीएस की पिछली बैठक पर की गई कार्यवाही रिपोर्ट भी प्रस्तुत की। गवर्निंग बोर्ड ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए एपीओ को मंजूरी दी। 

इसे भी पढ़ें: कोविड की संभावित तीसरी लहर से बचाव के दृष्टिगत जिलों के साथ समीक्षा बैठक आयोजित 

बोर्ड ने चिडि़याघरों के सुचारू संचालन के लिए अतिरिक्त कर्मचारी उपलब्ध कराकर चिडि़याघरों को मजबूत करने का भी निर्णय लिया। बैठक में प्रधान मुख्य वन अरण्यपाल डा. सविता और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।