ठाकरे परिवार में अब असली हिंदू की लड़ाई! मई में आदित्य तो जून में राज ठाकरे करेंगे रामलला के दर्शन

aditya and raj
अंकित सिंह । Apr 18, 2022 2:17PM
राम मंदिर आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले बाला साहब ठाकरे के ही परिवार में अब असली हिंदू कौन की लड़ाई शुरू हो गई है। इसी कड़ी में अब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे और राज ठाकरे अयोध्या पहुंचने वाले हैं। दोनों अयोध्या में रामलला के दर्शन करेंगे।

महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर को लेकर सियासी बवाल मचा हुआ है। राज ठाकरे लगातार लाउडस्पीकर के जरिए अजान को लेकर सख्त चेतावनी दे रहे हैं। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि राज ठाकरे अब हिंदुत्व को लेकर शिवसेना से ज्यादा मुखर होने की कोशिश कर रहे हैं। शिवसेना लगातार हिंदुत्व की राजनीति करती रही है। हालांकि, वर्तमान में महाराष्ट्र विकास आघाडी की सरकार का नेतृत्व करने वाली शिवसेना कहीं ना कहीं हिंदुत्व को लेकर नरम दिखाई दे रही है। यही कारण है कि हिंदुत्व के मुद्दे पर राज ठाकरे अब आक्रमक होते दिखाई दे रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: बुलडोजर के जरिये कानून-व्यवस्था को सुधारना कहां तक सही है ? पंजाब के खजाने पर पड़ा एक और बोझ

राम मंदिर आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले बाला साहब ठाकरे के ही परिवार में अब असली हिंदू कौन की लड़ाई शुरू हो गई है। इसी कड़ी में अब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे और राज ठाकरे अयोध्या पहुंचने वाले हैं। दोनों अयोध्या में रामलला के दर्शन करेंगे। रामलला के जरिए अपने अपने हिंदुत्व को भुनाने की भी कोशिश की जाएगी। हाल में ही आदित्य ठाकरे ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि मैं जल्द ही अयोध्या जाऊंगा। लेकिन उन्होंने तारीख नहीं बताई। आदित्य ठाकरे का दावा है कि उनके लिए हिंदुत्व राजनीतिक नहीं है और ना ही वोट हैं। उन्होंने कहा कि मैं काम को ज्यादा महत्व देता हूं। इसके साथ ही उन्होंने हनुमान जयंती के अवसर पर हनुमान चालीसा गाकर आरती भी की।

 

इसे भी पढ़ें: जहांगीरपुरी हिंसा अंतरराष्ट्रीय साजिश, भाजपा सांसद बोले- भारत को कमजोर करना चाहती हैं कुछ विदेशी ताकतें


राज ठाकरे जून में जाएंगे अयोध्या

राज ठाकरे ने कहा कि वह भगवान राम के दर्शन करने के लिए पांच जून को अयोध्या जाएंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर तीन मई तक मस्जिदों से लाउडस्पीकर नहीं उतारे गए तो ‘‘हिंदू भाई’’ तैयार रहें। ठाकरे के कहा कि अजान के लिए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल धार्मिक के बजाए सामाजिक मुद्दा अधिक है। मनसे प्रमुख ने कहा कि वह नहीं चाहते कि समाज की शांति भंग हो लेकिन ‘‘अगर लाउडस्पीकर का इस्तेमाल जारी रहा तो उन्हें (मुसलमान)भी हमारी प्रार्थनाएं लाउडस्पीकर पर सुननी पड़ेंगी।’’ अयोध्या जाने के मकसद के बारे में पूछे जाने पर ठाकरे ने कहा कि वह लंबे वक्त से कहीं बाहर नहीं गए हैं। यह दिलचस्प है कि राज्य की सत्तारूढ़ शिवसेना और राज ठाकरे के बीच वाक्युद्ध के मध्य शिवसेना सांसद संजय राउत ने शनिवार को कहा था कि राज्य के मंत्री आदित्य ठाकरे अगले माह अयोध्या जाएंगे। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़