बिना नाम लिए PM मोदी ने PAK को लताड़ा, बोले- आतंकवाद के लिए न हो अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल

बिना नाम लिए PM मोदी ने PAK को लताड़ा, बोले- आतंकवाद के लिए न हो अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाना बहुत जरूरी है कि अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद फैलाने और आतंकी हमलों के लिए न हो। हमें इस बात के लिए भी सतर्क रहना होगा कि वहां की नाजुक स्थिति का कोई देश अपने स्वार्थ के लिए एक टूल के लिए इस्तेमाल करने की कोशिश न करे।

न्यूयॉर्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र को संबोधित करते हुए पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान का नाम लिए बिना ही उसे लताड़ा और अफगानिस्तान के हालात पर भी चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि जो देश प्रतिगामी सोच के साथ-साथ आतंकवाद को एक राजनीतिक हथियार के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं, उन्हें यह समझना होगा कि आतंकवाद उनके लिए भी उतना ही बड़ा खतरा है।

इसे भी पढ़ें: संयुक्त राष्ट्र महासभा में बोले PM मोदी, डेढ़ साल से महामारी से लड़ रही है दुनिया, वैक्सीन लगाने में मदद कर रहा कोविन ऐप 

आतंकवाद के लिए न हो अफगानी धरती का इस्तेमाल 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाना बहुत जरूरी है कि अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद फैलाने और आतंकी हमलों के लिए न हो। हमें इस बात के लिए भी सतर्क रहना होगा कि वहां की नाजुक स्थिति का कोई देश अपने स्वार्थ के लिए एक टूल के लिए इस्तेमाल करने की कोशिश न करे।  

उन्होंने कहा कि इस समय अफगानिस्तान की जनता को, महिलाओं और बच्चों को, वहां के अल्पसंख्यक समुदाय को मदद की जरूरत है और इसमें हमें अपना दायित्व निभागा ही पड़ेगा। 

इसे भी पढ़ें: पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जयंती पर बीजेपी के पिछड़ा वर्ग ने किया माल्यार्पण

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि  हमारे समंदर भी हमारी साझा विरासत हैं। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हम इन संसाधनों का उपयोग करें और उनका दुरुपयोग न करें। हमारे समंदर अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार की जीवन रेखा भी हैं। हमें उन्हें विस्तार और बहिष्कार की दौड़ से दूर रखना चाहिए।

यहां सुने पूरा संबोधन:- 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।