आखिर सिद्धू ने किसके लिए कहा- हम तो डूबेंगे सनम, तुम्हें भी ले डूबेंगे

आखिर सिद्धू ने किसके लिए कहा- हम तो डूबेंगे सनम, तुम्हें भी ले डूबेंगे

सिद्धू प्रेस कॉन्फ्रेंस करके लगातार पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर निशाना साध रहे हैं। अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस को वो सोशल मीडिया पर भी शेयर कर रहे हैं। सिद्धू यह आरोप लगा रहे हैं कि सरकार ड्रग मामले को लेकर कोई एक्शन नहीं ले रही है।

पंजाब में कांग्रेस के लिए मुश्किलें कम होती हुई नजर नहीं आ रही है। अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी के अंदर गुटबाजी अपने चरम पर है। इन सबके बीच कांग्रेस नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। हालांकि, सत्ताधारी पार्टी बेचैनी के साथ सिद्धू को चुपचाप सुन रही है। कोई नेता फिलहाल उनसे बात करने सामने नहीं आ रहा। इतना ही नहीं, सिद्धू प्रेस कॉन्फ्रेंस करके लगातार पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर निशाना साध रहे हैं। अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस को वो सोशल मीडिया पर भी शेयर कर रहे हैं। सिद्धू यह आरोप लगा रहे हैं कि सरकार ड्रग मामले को लेकर कोई एक्शन नहीं ले रही है।

सिद्धू हर रोज राज्य सरकार के सामने अलग-अलग तरह के सवाल उठा रहे हैं जिससे पार्टी को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। हाल में ही सिद्धू ने ट्वीट कर लिखा कि हम तो डूबेंगे सनम, तुम्हें भी ले डूबेंगे। इसके साथ-साथ सिद्धू ने अपने ट्वीट में यह भी लिखा किया सरकार या पार्टी की नाकामी नहीं है, बल्कि एक आदमी है जिसने दोषियों से हाथ मिलाया हुआ है। हालांकि, सिद्धू ने अपने ट्वीट में किसी का नाम तो नहीं लिया है और सवाल जस का तस बना हुआ है कि आखिर वह एक आदमी कौन है। हालांकि जिस तरीके से सिद्धू का इस वक्त कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ तकरार चल रहा है उससे इस बात का तो अंदाजा लगाया ही जा सकता है कि आखिर सिद्धू की नजरों में वह आदमी कौन है। अपने इस ट्वीट के साथ सिद्धू ने एक वीडियो भी अपलोड किया है। अपने इस वीडियो में वह 2017 में  भाजपा छोड़ने के बाद अपने दिए बयानों को रखा है।

इसे भी पढ़ें: पंजाब में क्यों नहीं बन पा रही कांग्रेस की बात ? आखिर कहा अटक रहा मामला

इस वीडियो के बाद से कांग्रेस में बेचैनी बढ़ गई है। कई कांग्रेसी नेताओं का मानना है कि पार्टी और आलाकमान के साथ इस पर बैठक होनी चाहिए। उन नेताओं का यह भी मानना है कि आने वाले चुनाव में सिद्धू के यह वीडियो पार्टी को नुकसान पहुंचा सकती है। फिलहाल कांग्रेस की बात करें तो कोई भी नेता सिद्धू के सवाल पर खुलकर बोलने को तैयार नहीं है। पार्टी के नेताओं को लगता है कि इस मुद्दे का समाधान होना चाहिए। फिलहाल इस मुद्दे को लेकर मुख्यमंत्री को प्रियंका गांधी के पास जाना चाहिए ताकि यह मुद्दा हाथ से ना निकले।

इसे भी पढ़ें: कोरोना महामारी का असर, इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री 20 प्रतिशत घटी

आपको बता दें कि पंजाब कांग्रेस के अंदर कुछ भी ठीक-ठाक नहीं चल रहा हैइसकी शुरुआत तब हुई थी जब अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच मनमुटाव की खबरें सार्वजनिक हुई। गिने-चुने कुछ ही राज्यों में कांग्रेस की सरकार है। लेकिन वहां भी पार्टी के अंदर गुटबाजी आने वाले दिनों में उसके लिए हानिकारक साबित हो सकती हैं। छत्तीसगढ़ में भी गुटबाजी की खबरें रहती है। राजस्थान और मध्य प्रदेश में तो हमने प्रत्यक्ष रूप से देख ही लिया और पंजाब में भी उठापटक लगातार जारी रहता है। पंजाब में अमरिंदर सिंह और सिद्धू के बीच मुलाकात तो जरूर हुई लेकिन मामला बनता दिखाई नहीं दे रहा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept