प्रसव के बाद महिला को छोड़कर सुबह की सैर पर निकल गई डॉक्टर, खून की कमी के चलते हो गई रोगी की मौत

Doctor
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
महाराष्ट्र के जालना शहर के एक निजी अस्पताल में प्रसव के बाद 26 वर्षीय महिला की मौत के मामले में पुलिस ने स्त्री रोग विशेषज्ञ के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। सरकारी डॉक्टरों की समिति द्वारा उसे लापरवाही के लिए दोषी ठहराए जाने के बाद यह मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने कहा कि मरीज नेहा लिधौरिया की 13 अप्रैल को प्रसव के बाद रक्तस्राव (पीपीएच) याखून की भारी कमी के कारण मृत्यु हो गई।

जालना, 8 अगस्त।  महाराष्ट्र के जालना शहर के एक निजी अस्पताल में प्रसव के बाद 26 वर्षीय महिला की मौत के मामले में पुलिस ने स्त्री रोग विशेषज्ञ के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। सरकारी डॉक्टरों की समिति द्वारा उसे लापरवाही के लिए दोषी ठहराए जाने के बाद यह मामला दर्ज किया गया है। पुलिस के एक अधिकारी ने रविवार को मामले की जांच करने वाले राजकीय अस्पताल एवं मेडिकल कॉलेज (जीएचएमसी) औरंगाबाद के वरिष्ठ डॉक्टरों की समिति की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि डॉक्टर महिला रोगी को अनुभवहीन नर्सों के हवाले छोड़कर सुबह की सैर के लिए चली गई थी।

पुलिस ने कहा कि मरीज नेहा लिधौरिया की 13 अप्रैल को प्रसव के बाद रक्तस्राव (पीपीएच) याखून की भारी कमी के कारण मृत्यु हो गई। महिला को प्रसव के लिए 13 अप्रैल 2022 को जालना के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अधिकारी ने कहा, उसने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। 13 अप्रैल की सुबह प्रसव के बाद उसके शरीर में रक्त की भारी कमी हो गई, जबकि डॉक्टर उसे अनुभवहीन नर्सों के भरोसे छोड़कर सुबह की सैर के लिए निकल गई।

डॉक्टर और नर्सों ने महिला को खून की जरूरत के बारे में नहीं बताया। उन्होंने कहा, “डॉक्टर ने महिला की स्थिति और रक्त की आवश्यकता के बारे में उचित जानकारी नहीं दी। जिसके परिणामस्वरूप, अत्यधिक रक्त हानि के कारण उसकी मृत्यु हो गई। रोगी के पति ने सरकारी जिला अस्पताल में शिकायत दर्ज कराकर अपनी पत्नी की मौत की जांच की मांग की। इसके बाद शिकायत को जीएमसीएच समिति के पास भेज दिया गया। अधिकारी ने कहा कि स्त्री रोग विशेषज्ञ के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 304 (लापरवाही से मौत) के तहत मामला दर्ज किया गया है। मामले की जांच जारी है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़