भोपाल में मेडिकल जांच के बाद विशेष ट्रेन से 1122 श्रमिक झारखंड रवाना, श्रमिकों के लिए की गई भोजन पानी की समुचित व्यवस्था

भोपाल में मेडिकल जांच के बाद विशेष ट्रेन से 1122 श्रमिक झारखंड रवाना, श्रमिकों के लिए की गई भोजन पानी की समुचित व्यवस्था

कुल 1122 यात्रियों को भोजन-पानी, बिस्किट के पैकेट की समुचित व्यवस्था कर विशेष ट्रेन से इनके गृह नगर भेजा गया है। ये सभी भोपाल, ग्वालियर, सागर, विदिशा, होशंगाबाद, धार, अलीराजपुर, छिंदवाड़ा, आगर मालवा, उज्जैन और रायसेन जिले में फंसे हुए थे। इन सभी यात्रियों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और शासन- प्रशासन का हृदय से धन्यवाद ज्ञापित किया है।

भोपाल। कोरोना संकटकालीन परिस्थिति में लॉकडाउन में फसे 1 हज़ार 112 श्रमिको को शनिवार भोपाल के हबीबगंज रेलवे स्टेशन से जिला प्रशासन द्वारा विशेष ट्रेन से उनके निवास स्थान झारखंड रवाना किया गया। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मार्गदर्शन में शासन-प्रशासन द्वारा श्रमिकों, विद्यार्थियों, महिलाओं-बच्चो बड़े-बुजुर्ग और ऐसे अन्य अनगिनत लोगों को अपने गृह जिले भेजने की व्यवस्था की गई है। यह सभी मजदूर लॉकडाउन लागू होने के बाद से ही विभिन्न जिलों में फंसे हुए थे। भोपाल के हबीबगंज रेलवे स्टेशन से शनिवार को विशेष ट्रेन से रवाना ये सभी लोग झारखंड राज्य के निवासी है। वे यहां पढ़ाई, नौकरी सहित अन्य कारण से रह रहे थे। इन सभी का स्वास्थ्य दल द्वारा मेडिकल जांच, स्क्रीनिंग कराया गया और स्वस्थ पाए जाने के बाद ही रवाना किया गया।

इसे भी पढ़ें: देश में कोरोना मरीजों की संख्या 1.70 लाख के पार, 24 घंटे में रिकॉर्ड 7964 मामले

अपर कलेक्टर उमराव मरावी ने बताया कि कुल 1122 यात्रियों को भोजन-पानी, बिस्किट के पैकेट की समुचित व्यवस्था कर विशेष ट्रेन से इनके गृह नगर भेजा गया है। ये सभी भोपाल, ग्वालियर, सागर, विदिशा, होशंगाबाद, धार, अलीराजपुर, छिंदवाड़ा, आगर मालवा, उज्जैन और रायसेन जिले में फंसे हुए थे। इन सभी यात्रियों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और शासन- प्रशासन का हृदय से धन्यवाद ज्ञापित किया है। उन्होंने कहा कि इस परिस्थिति और कोरोना संक्रमण के बीच हमें यह सुविधा उपलब्ध कराई है। जिनसे आज हम अपने गृह नगर जा रहे हैं इसके लिए हम सरकार का कोटि-कोटि आभार व्यक्त करते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।