पुलवामा आतंकी हमले के बाद, कश्मीरियों के खिलाफ नहीं हुई हिंसक घटना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 27, 2019   13:49
पुलवामा आतंकी हमले के बाद, कश्मीरियों के खिलाफ नहीं हुई हिंसक घटना

न्यायालय ने वकील तारिक अदीब द्वारा दायर याचिका पर दो सप्ताह के बाद सुनवाई की अगली तारीख सूचीबद्ध की। न्यायालय ने अपना जवाब नहीं देने वाले राज्यों से एक सप्ताह के भीतर ऐसा करने को कहा है।

नयी दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने 22 फरवरी के बाद कश्मीरियों के खिलाफ हिंसा का कोई नया मामला सामने नहीं आने के केन्द्र के बयान पर बुधवार को संज्ञान लिया। इस मुद्दे को लेकर 22 फरवरी को उच्चतम न्यायालय में एक जनहित याचिका (पीआईएल) दायर की गई थी। न्यायालय ने 22 फरवरी को 11 राज्यों के मुख्य सचिवों और पुलिस प्रमुखों को पुलवामा आतंकी हमले के बाद कश्मीरियों के खिलाफ कथित धमकी, सामाजिक बहिष्कार और हिंसा की घटनाओं को रोकने के लिए ‘शीघ्र’ और ‘आवश्यक’ कार्रवाई करने का निर्देश दिया था।

इसे भी पढ़ें: पुलवामा हमला: मोदी के सर्वदलीय बैठक में शामिल न होने पर शरद पवार ने की आलोचना

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल के बयान पर संज्ञान लिया। वेणुगोपाल ने कहा कि राज्य के बाहर रह रहे कश्मीर घाटी के निवासियों की सुरक्षा के संबंध में उच्चतम न्यायालय के निर्देशों के बाद कश्मीरियों के खिलाफ हिंसा की कोई ताजा घटना नहीं हुई है। पीठ ने कहा कि केन्द्र के बयानों को देखते हुये इस संबंध में और किसी आदेश की आवश्यकता नहीं है। न्यायालय ने वकील तारिक अदीब द्वारा दायर याचिका पर दो सप्ताह के बाद सुनवाई की अगली तारीख सूचीबद्ध की। न्यायालय ने अपना जवाब नहीं देने वाले राज्यों से एक सप्ताह के भीतर ऐसा करने को कहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।