बिहार में मतदान के बाद लोगों के खातों से उड़े पैसे, वजह जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

बिहार में मतदान के बाद लोगों के खातों से उड़े पैसे, वजह जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

लोगों का दावा था कि वोटिंग के समय बायोमेट्रिक के लिए अंगूठे का निशान देने और आधार नंबर बताने के साथ ही उनके बैंक खातों से पैसे उड़ा लिए गए। घटना मुंगेर के चौड़ान गांव की है।

बिहार में इस समय त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव चल रहे हैं। पंचायत चुनाव के दौरान मतदाताओं में काफी उत्सुकता देखी जा रही है। मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए काफी उत्साहित है और बूथ पर जाकर अपने पसंद के उम्मीदवारों के पक्ष में वे मतदान भी कर रहे हैं। इन सबके बीच बिहार के मुंगेर से एक ऐसी खबर आई है जो सभी को हैरान कर रही है। दरअसल, पंचायत चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग करने वाले कुछ मतदाताओं के बैंक से पैसे कट गए। यह घटना उस समय हुआ जब उन्होंने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। उसके बाद लोगों ने हंगामा मचाना शुरू कर दिया।

इसे भी पढ़ें: बिहार विधानसभा का शीतकालीन सत्र शुरू होने के साथ ही विपक्ष बंटा हुआ दिखा

लोगों का दावा था कि वोटिंग के समय बायोमेट्रिक के लिए अंगूठे का निशान देने और आधार नंबर बताने के साथ ही उनके बैंक खातों से पैसे उड़ा लिए गए। घटना मुंगेर के चौड़ान गांव की है। लोगों के हंगामे के बाद सदर एसडीओ खुशबू गुप्ता भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और मामले की जांच शुरू कर दी। इसके साथ ही बायोमेट्रिक सिस्टम संचालक को हिरासत में ले लिया गया। पूरे मामले को उसी ने अंजाम दिया था। एसडीओ ने बताया कि कम से कम 7 वोटरों के अकाउंट से पैसे निकाले जाने के मैसेज आए थे। 

इसे भी पढ़ें: नीतीश के करीबी मंत्री ने नीति आयोग की रिपोर्ट को चुनौती दी, बिहार के लिए अधिक केंद्रीय सहायता मांगी

आरोपी ने पुलिस पूछताछ में अपना जुर्म कबूल कर लिया है। आरोपी का नाम रवि बताया जा रहा है जो मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से मतदाताओं के बैंकों से पैसे निकाल रहा था। रवि एक बैंक की सीएसपी का भी संचालक है। इस तरह की धांधली से रवि ने अलग-अलग मतदाताओं के बैंक खातों से 36000 रुपये निकाले है। बताया जा रहा है कि इस बार धांधली से बचने के लिए मतदान केंद्रों पर इस्तेमाल किए जा रहे हैं बायोमैट्रिक सिस्टम को संभालने के लिए रवि को तैनात किया गया था। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...