आठ दिनों से एम्स का सर्वर हैक, दो निलंबित, गृह मंत्रालय ने की हाई लेवल मीटिंग

AIIMS
ANI
अभिनय आकाश । Nov 30, 2022 2:37PM
दिल्ली एम्स में सर्वर हैकिंग की घटना ने गृह मंत्रालय की भी नींद उड़ा दी है। एम्स सर्वर हैक को लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक हाई लेवल मीटिंग भी की है। इस मीटिंग में आईबी, एनआईए, दिल्ली पुलिस और एम्स प्रशासन के अलावा कंप्यूटर रिस्पांस इमरजेंसी सिस्टम के आला अधिकारी शामिल हुए।

एम्स में सर्वर हैक हुए अब तक आठ दिन हो चुके हैं लेकिन हैकर्स की अबतक कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। हैकिंग कहां से हुई है और सर्वर को किसने डाउन किया है। अभी तक इसकी जांच जारी है। आठवें दिन भी अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दिल्ली का सर्वर खराब रहा और सूत्रों के मुताबिक दिल्ली के दो विश्लेषकों के निलंबन के बाद साइबर सुरक्षा का उल्लंघन करने के आरोप में और भी निलंबन हो सकते हैं। सूत्रों के अनुसार, "सैनिटाइजिंग प्रक्रिया शुरू हुई, पहले यह 15 थी लेकिन अब 50 में से 25 सर्वर और 400 से अधिक एंडपॉइंट कंप्यूटर स्कैन किए जा चुके हैं। भविष्य की सुरक्षा के लिए एंटीवायरस अपलोडिंग भी शुरू कर दी गई है।"

इसे भी पढ़ें: वडोदरा में बोले जेपी नड्डा, नेहरू ने एक एम्स बनाया, वाजपेयी ने 6 और मोदी ने 15

दिल्ली एम्स में सर्वर हैकिंग की घटना ने गृह मंत्रालय की भी नींद उड़ा दी है। एम्स सर्वर हैक को लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक हाई लेवल मीटिंग भी की है। इस मीटिंग में आईबी, एनआईए, दिल्ली पुलिस और एम्स प्रशासन के अलावा कंप्यूटर रिस्पांस इमरजेंसी सिस्टम के आला अधिकारी शामिल हुए। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बैठक में हैकिंग के मामले में अभी तक जांच किस दिशा में बढ़ रही है, इसको लेकर चर्चा हुई। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली AIIMS में सर्वर डाउन का मामला, हैकर्स ने की 200 करोड़ की मांग!

मंगलवार को एम्स ने एक बयान भी जारी किया कि ई-हॉस्पिटल डेटा को बहाल कर दिया गया है, "ई-हॉस्पिटल डेटा को सर्वर पर बहाल कर दिया गया है। सेवाओं को बहाल करने से पहले नेटवर्क को साफ किया जा रहा है। इस प्रक्रिया में कुछ समय लग रहा है। अस्पताल सेवाओं के लिए डेटा की मात्रा और बड़ी संख्या में सर्वर/कंप्यूटर। साइबर सुरक्षा के लिए उपाय किए जा रहे हैं।" सभी अस्पताल सेवाएं, जिनमें आउट पेशेंट, इन-पेशेंट, प्रयोगशालाएं आदि शामिल हैं, मैनुअल मोड पर चलती हैं। 

अन्य न्यूज़