दिल्ली में वायु गुणवत्ता फिर ‘गंभीर श्रेणी’ में पहुंची

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 28, 2020   14:07
दिल्ली में वायु गुणवत्ता फिर ‘गंभीर श्रेणी’ में पहुंची

दिल्ली का 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 396 था जो ‘बेहद खराब’ श्रेणी में आता है। हालांकि रात 10 बजे के बाद स्थिति में बदलाव आया और एक्यूआई बढ़कर 406 हो गया।

नयी दिल्ली। दिल्ली की वायु गुणवत्ता एक बार फिर रविवार को ‘गंभीर’ श्रेणी में चली गई। मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक यह स्थिति आसपास के इलाकों में हल्की बारिश की वजह से अधिक नमी होने से हुई है क्योंकि प्रदूषक भारी होकर सतह के ऊपर जमा हो गए। दिल्ली का 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 396 था जो ‘बेहद खराब’ श्रेणी में आता है। हालांकि रात 10 बजे के बाद स्थिति में बदलाव आया और एक्यूआई बढ़कर 406 हो गया। उल्लेखनीय है कि दिल्ली का 24 घंटे का औसत एक्यूआई शनिवार, शुक्रवार, बृहस्पतिवार, बुधवार और मंगलवार को क्रमश: 337, 357, 423, 433, और 418 दर्ज किया गया था। बता दें कि शून्य से 50 के बीच एक्यूआई ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच एक्यूआई ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच एक्यूआई ‘सामान्य’ 201 और 300 के बीच एक्यूआई ‘खराब’, 301 और 400 के बीच एक्यूआई ‘बेहद खराब’ और 401 से 500 के बीच एक्यूआई ‘गंभीर’ की श्रेणी में आता है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में छाया घना कोहरा, वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में रही

क्षेत्रीय मौसम विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ की वजह से पड़ोसी इलाकों में हल्की बारिश हुई है जिसकी वजह से हवा में नमी बढ़ी है। उन्होंने कहा, ‘‘हवा में मौजूद पानी की बूंदे प्रदूषकों को और भारी बना देती है जिससे मध्यम गति से हवा बहने के बावजूद वे आसानी से नहीं बिखरते हैं।’’ श्रीवास्तव ने कहा कि दिन में इस स्थिति में आंशिक सुधार देखने को मिलेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।