दिल्ली में छाया घना कोहरा, वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में रही

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 24, 2020   10:51
दिल्ली में छाया घना कोहरा, वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में रही

मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार शून्य से 50 मीटर के बीच दृश्यता होने पर कोहरा ‘बेहद घना’ , 51 से 200 मीटर के बीच ‘घना’, 201 से 500 के मीटर के बीच ‘मध्यम’ और 501 से 1000 के बीच दृश्यता होने पर कोहरे को ‘हल्का’ माना जाता है।

नयी दिल्ली। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि दिल्ली में घना कोहरा छाने से बृहस्पतिवार सुबह कई इलाकों में दृश्यता घटकर 100 मीटर रह गई। सफदरजंग वेधशाला में न्यूनतम तापमान 4.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केन्द्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘पालम इलाके में छाये घने कोहरे के कारण सुबह साढ़े पांच से आठ बजे के बीच दृश्यता घटकर 100 मीटर रह गई।’’ मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार शून्य से 50 मीटर के बीच दृश्यता होने पर कोहरा ‘बेहद घना’ , 51 से 200 मीटर के बीच ‘घना’, 201 से 500 के मीटर के बीच ‘मध्यम’ और 501 से 1000 के बीच दृश्यता होने पर कोहरे को ‘हल्का’ माना जाता है। दिल्ली में अगले दो दिनों तक शीतलहर चलने का अनुमान है। वहीं तापमान के शुक्रवार को तीन डिग्री सेल्सियस पर पहुंचने का अनुमान है।

विभाग ने कहा कि इस दौरान ‘‘ मध्यम से घना ’’ कोहरा छाने की संभावना है। अधिकारियों ने बताया कि मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या उससे कम और सामान्य से 4.5 डिग्री सेल्सियस कम रहता है, तो आईएमडी शीतलहर की घोषणा कर देता है। मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों के अनुसार नमी के अधिक होने, हवा की धीमी गति होने से दिल्ली की वायु गुणवत्ता ‘‘खराब’’ श्रेणी में दर्ज की गई। श्रीवास्तव ने कहा कि 26 दिसम्बर तक इसमें कोई बड़ा सुधार होने की संभावना नहीं है। शहर में सुबह नौ बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 427 था। बुधवार का 24 घंटे का औसतन एक्यूआई 433 और मंगलवार का 418 था। वहीं पड़ोसी शहर फरीदाबाद में एक्यूआई 450, गाजियाबाद में 442, ग्रेटर नोएडा में 454 और नोएडा में 448 दर्ज किया गया। एक्यूआई शून्य से 50 के बीच ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘सामान्य’,201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘अत्यंत खराब’ और 401 से 500 के बीच ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।