उत्तर प्रदेश चुनाव में जिन्ना का आगमन! अखिलेश यादव ने बताया 'आजादी का नायक', बीजेपी ने की तीखी आलोचना

उत्तर प्रदेश चुनाव में जिन्ना का आगमन! अखिलेश यादव ने बताया 'आजादी का नायक', बीजेपी ने की तीखी आलोचना

भारतीय जनता पार्टी ने पाकिस्तान के पहले गवर्नर जनरल मोहम्मद अली जिन्ना की सराहना करने पर समाजवादी पार्टी के प्रमुख व उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की तीखी आलोचना की।

समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा के दो ही काम है, एक समाजवादी पार्टी के कामों के नाम बदलना और दूसरा शौचालय बनवाना। इसके अलावा यादव ने भारत की आजादी में मोहम्मद अली जिन्ना के योगदान की सराहना की। भारतीय जनता पार्टी ने पाकिस्तान के पहले गवर्नर जनरल मोहम्मद अली जिन्ना की सराहना करने पर समाजवादी पार्टी के प्रमुख व उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की तीखी आलोचना की। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने रविवार को ट्वीट किया सरदार पटेल की जयंती पर अखिलेश यादव मोहम्‍मद अली जिन्ना का गुणगान क्यों कर रहे हैं। 

अखिलेश यादव का पटेल को श्रद्धांजलि के बहाने सरकार पर तीखा हमला

हरदोई में रविवार को समाजवादी विजय रथ लेकर पहुंचे सपा प्रमुख यादव ने माधौगंज के एक स्‍कूल में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘भारतीय जनता पार्टी लौह पुरुष सरदार पटेल को आज याद तो कर रही है, अगर वास्तव में उनके बताए रास्ते पर चलना है तो जो तीन कृषि कानून पास किए हैं, उनको आज ही वापस ले लें, यही पटेल को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। 

इसे भी पढ़ें: मोदी ने हिंदू विरासत माह संपन्न होने पर अमेरिका के विश्व हिंदू परिषद को बधाई दी

मोहम्मद अली जिन्ना का गुणगान कर रहे हैं अखिलेश यादव

यादव ने कहा, ‘‘आज पूरा देश सरदार पटेल को याद कर रहा है, उनकी जयंती मना रहा है। वल्लभभाई पटेल का देश को एक रखने में और खुशहाल रखने में बड़ा योगदान है और उन्होंने स्वयं किसानों की लड़ाई लड़ी, इसलिए उन्हें सरदार और लौह पुरुष भी कहा जाता है। यादव ने भारत की आजादी में मोहम्मद अली जिन्ना के योगदान की सराहना की। सपा प्रमुख ने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल, महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और (मोहम्मद अली) जिन्ना ने उसी संस्थान से पढ़ाई की, और बैरिस्टर बने और भारत की आजादी के लिए किसी भी संघर्ष से पीछे नहीं हटे। उन्होंने राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ का नाम लिए बिना कहा अगर कोई विचारधारा (आरएसएस की) है जिस पर प्रतिबंध लगाया गया था तो वह लौह पुरुष सरदार पटेल थे जिन्होंने प्रतिबंध लगाने का काम किया था। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा आज, जो लोग देश को एकजुट करने की बात कर रहे हैं, वे आपको और मुझे जाति और धर्म के आधार पर विभाजित कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: वर्ष 2022 में इंडोनेशिया और वर्ष 2023 में भारत में होने वाली बैठक का इंतजार : जी 20 नेता 

अखिलेश की भाजपा को नसीहत

उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय जनता पार्टी दावा करती है कि सरदार पटेल के रास्ते पर चल रहे हैं, लेकिन आज सबसे ज्यादा किसान दुखी हैं। आज किसानों की आय कम हुई है, महंगाई बढ़ गई है, बेरोजगारी बढ़ी है, जिस तरह से सरकार चल रही है, सभी वर्ग अपमानित हो रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘कानून व्यवस्था पूरी तरीके से ध्वस्त है, फैजाबाद में एक बेटी ने पुलिस पर आरोप लगाकर आत्महत्या कर ली। अगर पुलिस ही ऐसी घटनाओं में शामिल हो जाएगी तो न्याय कौन देगा।’’ सपा प्रमुख ने कहा, ‘‘समाजवादी पार्टी के जितने भी काम हैं भारतीय जनता पार्टी उन्हीं का शिलान्यास-लोकार्पण कर रही है। उन्होंने कहा, ‘‘बाबा (योगी आदित्यनाथ) मुख्यमंत्री एक कमाल के मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने अपने किसी काम का उद्घाटन नहीं किया है। यादव ने कहा, ‘‘सभी वर्गों ने मन बना लिया है कि समाजवादी पार्टी की सरकार बनाएंगे जिससे उत्तर प्रदेश तरक्की और खुशहाली के रास्ते पर जाएगा। 

योगी सरकार के अत्याचारों से जनता में रोष : अखिलेश यादव

उन्होंने मुख्यमंत्री पर व्यंग करते हुए कहा कि ‘‘जब जनता ने मन बना लिया है तो ऐसे में जो मुख्यमंत्री आवास है उसको मुख्यमंत्री पूरी तरीके से साफ करा दें, जाले साफ करा दें और वहां जो धुंए के धब्बे हैं वह भी साफ करा दें। यादव ने कहा उत्तर प्रदेश में लगातार समाजवादी “विजय रथ“ चलता रहेगा, प्रदेश की जनता को न्याय और किसानों, नौजवानों को विजय दिलाने के लिए विजय रथ यात्रा निकाली जा रही है। उन्होंने कहा उत्तर प्रदेश में किसान सरकार की दोषपूर्ण नीतियों के कारण आत्महत्या कर रहे हैं, भाजपा झूठ की बुनियाद पर सत्ता में आई थी लेकिन अब उसकी पोल खुल गयी है। अखिलेश यादव ने हरदोई के प्रयागराजपुर-शाहजहांपुर राजमार्ग पर ग्राम सदरपुर में सरदार पटेल की और समाजसेवी स्वर्गीय राम लाल सिंह की प्रतिमाओं का अनावरण किया।

उत्तर प्रदेश चुनाव में जिन्ना पर खफा बीजेपी

भारतीय जनता पार्टी ने पाकिस्तान के पहले गवर्नर जनरल मोहम्मद अली जिन्ना की सराहना करने पर समाजवादी पार्टी के प्रमुख व उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की तीखी आलोचना की। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने रविवार को ट्वीट किया सरदार पटेल की जयंती पर अखिलेश यादव मोहम्‍मद अली जिन्ना का गुणगान क्यों कर रहे हैं। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के जल शक्ति मंत्री डॉक्टर महेंद्र सिंह ने रविवार को अखिलेश यादव का वीडियो साझा करते हुए ट्वीट किया सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की जयंती के अवसर पर भी इनको अपने आदर्श जिन्‍ना याद आ ही गए। 

लौह पुरुष की तुलना जिन्ना से करने पर बीजेपी हमलावर हुई

भारतीय जनता पार्टी के राज्‍यसभा सदस्‍य और उत्‍तर प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक बृजलाल ने एक वीडियो जारी कर कहा सपा मुखिया अखिलेश यादव ने लौह पुरुष की तुलना जिन्ना से की है, अखिलेश यादव को पहले इतिहास पढ़ लेना चाहिए। जिन्ना ने हजारों हिंदुओं का कत्लेआम कराया और वह देश के बंटवारे के जिम्मेदार हैं। भाजपा सांसद ने कहा अखिलेश यादव जी सरदार पटेल की जयंती के एक दिन पहले आपके पिता जी (मुलायम सिंह यादव) ने 30 अक्टूबर, 1990 को अयोध्या में रामभक्तों पर गोली चलवाई थी, मां सरयू का आंचल लाल हो गया था। यादव को लक्ष्य कर उन्होंने कहा कि तुष्टिकरण में इतना नीचे मत गिरो। उल्लेखनीय है कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने रविवार को हरदोई की एक जनसभा में मोहम्मद अली जिन्ना की, भारत की आजादी के लिए उनके योगदान की सराहना की थी। 

अखिलेश कर रहे हैं तुष्टीकरण की नीति

सपा प्रमुख ने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल, महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और (मोहम्मद अली) जिन्ना ने एक ही संस्थान से पढ़ाई की और बैरिस्टर बने और उन्होंने आजादी दिलाई। उन्हें आजादी के लिए किसी भी तरीके से संघर्ष करना पड़ा होगा तो पीछे नहीं हटे। उन्होंने राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ का नाम लिए बिना कहा अगर कोई विचारधारा (आरएसएस की) है जिस पर प्रतिबंध लगाया गया था तो वह लौह पुरुष सरदार पटेल थे जिन्होंने प्रतिबंध लगाने का काम किया था। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा आज, जो लोग देश को एकजुट करने की बात कर रहे हैं, वे आपको और मुझे जाति और धर्म के आधार पर विभाजित कर रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।