अमित शाह की NSA डोभाल समेत अधिकारियों संग बैठक, PFI के खिलाफ NIA की देशभर में छापेमारी, राजनेताओं की बयानबाजी जारी

Amit Shah
ANI
अभिनय आकाश । Sep 22, 2022 12:44PM
देश के 11 राज्यों में एनआईए छापेमारी कर रही है। अब तक पीएफआई से जुड़े 106 लोगों को गिरफ्तार भी किया जा चुका है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पीएफआई पर एनआईए के छापे को लेकर एनएसए अजित डोभाल, गृह सचिव, डीजी एनआईए सहित अधिकारियों के साथ बैठक की है।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) देशभर में छापेमारी कर रही है। ये छापेमारी पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया यानी पीएफआई से जुड़े लोगों और उनके ठिकानों पर हो रही है। देश के 11 राज्यों में एनआईए छापेमारी कर रही है। अब तक पीएफआई से जुड़े 106 लोगों को गिरफ्तार भी किया जा चुका है।  केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पीएफआई पर एनआईए के छापे को लेकर एनएसए अजित डोभाल, गृह सचिव, डीजी एनआईए सहित अधिकारियों के साथ बैठक की है। 

इसे भी पढ़ें: आतंकी वित्त पोषण मामला : एनआईए ने 11 राज्यों में छापे मारे, करीब 100 संदिग्ध गिरफ्तार

टेरर फंडिंग मामले में एनआईए और ईडी ने देश के 11 राज्यों में छापेमारी की है। केरल के तिरुवनंतपुरम में आधीर रात से पीएफआई ओमा सलाम के घर, मलप्पुरम जिले के अध्यक्ष और पीएफआई के कार्यालयों सहित जिला स्तर के नेताओं के घरों पर छापेमारी की है। बताया जा रहा है कि दिल्ली के ओखला से पीएफआई के अध्यक्ष परवेज और उसके भाई को भी गिरफ्तार किया जा चुका है। एनआईए द्वारा दर्ज़ एक मामले के सिलसिले में एनआईए ने हैदराबाद के चंद्रयानगुट्टा में पीएफआई मुख्यालय को सील कर दिया। एनआईए, ईडी, पैरामिलिट्री ने स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर कार्यालय को सील किया है।

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi NewsRoom: PFI के खिलाफ NIA, ED की देशव्यापी छापेमारी, OMA सलाम समेत 106 गिरफ्तार

पीएफआई की छापेमारी को लेकर केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि मुझे लगता है पीएफआई आतंकियों से संबंधित है। संगठन चलाने और मुस्लिम समुदाय को एक करने में हमारा विरोध नहीं है। लेकिन देश का नाम लेकर यहां आतंक फैलाने की कोशिश होती है तो उसपर एक्शन लेने की आवश्यक्ता होती है। एनआईए और ईडी के छापों का मैं स्वागत करता हूं। वहीं केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि पीएफआई जो भारत विरोधी काम करता है। पूर्णिया को उसने अपना सेंटर बनाया है। ये दुर्भाग्य है जब फुलवारी शरीफ में पीएफआई पर छापे पड़े तब पुलिस का निराशाजनक वक्तव्य आया था। नीतीश और लालू बाबू तुष्टीकरण की राजनीति करते हैं।

अन्य न्यूज़