बुंदेलखंड के प्राचीन किलों को पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित किया जाए: योगी आदित्यनाथ

Ancient Fort
ANI
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि बुंदेलखंड के झांसी में अवस्थित प्राचीन किलों/दुर्गों के जीर्णोद्धार के साथ पर्यटन की संभावनाओं को आकार देने के लिए, विशाल परिसर वाले कई किलों को उनकी भव्यता के साथ बेहतरीन होटल के रूप में तैयार करने, किलों में मनोरंजक गतिविधियां विकसित करने के लिए पेशेवर एजेंसी द्वारा अध्ययन कराया जाए।

लखनऊ, 23 जुलाई। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि बुंदेलखंड के झांसी, ललितपुर, जालौन, हमीरपुर, महोबा, बांदा और चित्रकूट में ऐतिहासिक स्मृतियों को संजोए अनेक प्राचीन किलों के महत्व के बारे में नई पीढ़ी को जानकारी उपलब्ध करायी जानी चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘‘बुंदेलखंड क्षेत्र में अवस्थित प्राचीन किलों/दुर्गों का जीर्णोद्धार करके उन्हें पर्यटन के नवीन केंद्र के रूप में विकसित किया जा सकता है। विशाल परिसर वाले कई किलों को उनकी भव्यता के साथ बेहतरीन होटल के रूप में तैयार किया जा सकता है। हमें इन संभावनाओं को आकार देना होगा।’’ आदित्यनाथ ने शनिवार को बुंदेलखंड क्षेत्र के किलों के जीर्णोद्धार के संबंध में बैठक के दौरान यह बातें कहीं।

प्रदेश सरकार द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक, मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि 542 हेक्टेयर के विशाल क्षेत्र में फैले कलिंजर किले में निजी क्षेत्र की सहभागिता से रौशनी एवं संगीत शो और ट्रेकिंग के साथ ही अन्य रोचक गतिविधियों को शुरू किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि झांसी दुर्ग में पर्यटकों का आगमन होता है। वहीं, समीप में स्थित बरुआ सागर किले तक जाने के लिए सुगम साधन की जरूरत है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 12 एकड़ परिसर वाला टहरौली किला और 4 एकड़ परिसर वाली दिगारा की गढ़ी, चिरगांव का किला, लोहागढ़ का किला, चम्पत राय महल, रघुनाथ राव महल की स्थिति जीर्ण-शीर्ण हो रही है।

उन्होंने कहा कि इनके पुनरुद्धार के लिए ठोस प्रयास किये जायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि बरुआ सागर किला, टहरौली के किले, दिगारा की गढ़ी, महल महिपाल निवास, सरीला और रघुनाथ राव के महल को विरासत होटल के रूप में विकसित किया जाए।

उन्होंने कहा कि किलों में मनोरंजक गतिविधियां विकसित करने पर ध्यान केंद्रित किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि बुंदेलखंड में किलों के जीर्णोद्धार के साथ पर्यटन की संभावनाओं को आकार देने के लिए पेशेवर एजेंसी द्वारा अध्ययन कराया जाए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़