सेना में भर्ती नहीं कराए जाने को लेकर नाराज युवकों ने राजनाथ सिंह की जनसभा में किया हंगामा, अखिलेश यादव जिंदाबाद के नारे भी लगे

सेना में भर्ती नहीं कराए जाने को लेकर नाराज युवकों ने राजनाथ सिंह की जनसभा में किया हंगामा, अखिलेश यादव जिंदाबाद के नारे भी लगे

आपको बता दें बाद में उसे पुलिस ने हिरासत में ले लिया। डीएसपी राजेश तिवारी ने कहा कि आरोपी शख्स की पहचान अंगद यादव के रूप में हुई है उसे हिरासत में ले लिया गया है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि आरोपी से पूछताछ की जा रही है।

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह यूपी चुनाव को देखते हुए इन दिनों चुनावी रैलियों में बिजी हैं। रोजगार के मुद्दे पर उन्हें रोजाना युवकों के हंगामे का सामना करना पड़ रहा है। बीते कल मंगलवार को राजनाथ सिंह के बलिया रैली में सेना में भर्ती नहीं कराए जाने को लेकर कुछ नाराज युवकों ने नारेबाजी की। इसके बाद रक्षा मंत्री कोरूना का हवाला देते हुए अपना बचाव करने लगे। इसके बाद जब युवक ने अखिलेश यादव जिंदाबाद के नारे लगाए तो भाजपा कार्यकर्ताओं ने उसे पकड़ लिया। हालांकि राजनाथ सिंह ने मंच से उसे छोड़ देने की अपील की। युवक को बाद में पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

बलिया के बंसी बाजार में चुनावी जनसभा में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मोदी और योगी सरकार के कामकाज की कामकाज की तारीफ कर रहे थे। तभी कुछ युवकों ने उनके भाषण में बाधा पहुंचाते हुए दावा किया कि 3 साल से सेना की भर्ती पर रोक लगी हुई है। जवाब में रक्षा मंत्री ने कहा कि प्रक्रिया जारी है। जब युवक नहीं माने तो राजनाथ सिंह ने कहा कि नेतागिरी से बात बिगड़ जाती है।

उन्होंने कहा मैं समस्या को जानता हूं। कोविड की महामारी के कारण ऐसा हुआ। यह पहली बार है जब हम इस तरह की समस्या का सामना कर रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने जिस तरह से इस हालात में काम किया उसकी तारीफ पूरी दुनिया कर रही है। इसके बाद जब रक्षा मंत्री का भाषण खत्म होने वाला था तभी एक शख्स ने नारा लगाया, गरीबों के मसीहा, अखिलेश यादव जिंदाबाद। जब बीजेपी कार्यकर्ता उस शख्स की ओर बढ़े तो राजनाथ सिंह ने उसे छोड़ देने की अपील की।

आपको बता दें बाद में उसे पुलिस ने हिरासत में ले लिया। डीएसपी राजेश तिवारी ने कहा कि आरोपी शख्स की पहचान अंगद यादव के रूप में हुई है उसे हिरासत में ले लिया गया है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि आरोपी से पूछताछ की जा रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।