पूर्ण राज्य की मांग पर समर्थन जुटाने के लिए भूख हड़ताल पर बैठेंगे केजरीवाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2019   17:20
पूर्ण राज्य की मांग पर समर्थन जुटाने के लिए भूख हड़ताल पर बैठेंगे केजरीवाल

दिल्ली विधानसभा के बजट के दौरान केजरीवाल ने शनिवार को घोषणा की थी कि वह एक मार्च से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करेंगे।

नयी दिल्ली। आप सुप्रीमो और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दिल्ली के लिए पूर्ण राज्य की मांग पर समर्थन जुटाने को लेकर एक मार्च से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठेंगे। यह जानकारी सोमवार को पार्टी संयोजक गोपाल राय ने दी। राय ने कहा कि वह दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष शीला दीक्षित और दिल्ली भाजपा के प्रमुख मनोज तिवारी को पत्र लिखकर इस मुद्दे पर उनका रुख जानेंगे। भूख हड़ताल के केजरीवाल के निर्णय पर भाजपा और कांग्रेस दोनों ने सवाल खड़े किए और कहा कि लोकसभा चुनावों से पहले राजनीतिक फायदे के लिए यह कदम उठाया जा रहा है।

राय ने कहा, ‘‘केजरीवाल की सरकार से कोई मांग नहीं है और पूर्ण राज्य की मांग के मुद्दे पर लोगों को संगठित करने के लिए वह अनशन कर रहे हैं। वह निर्णय करेंगे कि मुद्दे पर लोग कब एकजुट होंगे। तब तक भूख हड़ताल जारी रहेगी।’’उन्होंने कहा कि केजरीवाल की भूख हड़ताल का स्थल अभी तक तय नहीं हुआ है। दिल्ली विधानसभा के बजट के दौरान केजरीवाल ने शनिवार को घोषणा की थी कि वह एक मार्च से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करेंगे।

इसे भी पढ़ें: नेशनल हेराल्ड मामले में सुब्रह्मण्यम स्वामी से 30 मार्च को होगी जिरह

राय ने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष शीला दीक्षित अब भाजपा की भाषा बोल रही हैं जिन्होंने पहले दिल्ली के लिये पूर्ण राज्य के दर्जे की मांग की थी। उन्होंने कहा, ‘‘मैं शीला दीक्षित और मनोज तिवारी को पत्र लिखकर पूर्ण राज्य के मुद्दे पर उनका रूख जानूंगा, जिसका पहले उनके दलों ने समर्थन किया था।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।