बंगाल में 22,887 अतिरिक्त मतदान केंद्र होंगे, CEC सुनील अरोड़ा बोले- जल्द होगा तारीखों का ऐलान

बंगाल में 22,887 अतिरिक्त मतदान केंद्र होंगे, CEC सुनील अरोड़ा बोले- जल्द होगा तारीखों का ऐलान

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि पश्चिम बंगाल में 78,903 मतदान केंद्र थे। अतिरिक्त मतदान केंद्र 22,887 होंगे। जिसके बाद मतदान केंद्रों की संख्या बढ़कर 1,01,790 हो जाएगी।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले चुनाव आयोग के अधिकारियों ने राज्य के नेताओं और उच्च अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक के बाद मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि राजनीतिक दलों के साथ चर्चा के बाद ज्यादातर ने कहा कि चुनावों में बड़ी संख्या में सीएपीएफ की तैनाती की जाए और पोलिंग स्टेशन पर वीडियोग्राफी हो ताकि सुरक्षित वोटिंग हो सके। उन्होंने सोशल मीडिया के दुरुपयोग को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाने के लिए भी कहा है। 

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल के ममता बनर्जी मंत्रिमंडल से एक और नेता ने दिया इस्तीफा 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि पश्चिम बंगाल में 78,903 मतदान केंद्र थे। अतिरिक्त मतदान केंद्र 22,887 होंगे। जिसके बाद मतदान केंद्रों की संख्या बढ़कर 1,01,790 हो जाएगी। इस बार सभी मतदान केंद्र ग्राउंड फ्लोर पर होंगे। यह दिव्यांगजनों को ध्यान में रखकर और मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए किया गया है।

चुनाव आयोग के अधिकारियों ने बताया कि राज्य में शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव हो इसके लिए बैठक में चर्चा हुई। मिली जानकारी के मुताबिक जिस राज्य में चुनाव होगा वहां पर उस राज्य से संबंधित अधिकारियों की तैनाती नहीं की जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल में शांतिपूर्ण चुनाव कराने के लिए निर्वाचन आयोग बढ़ा सकता है सुरक्षाकर्मियों की तादाद 

जल्द होगा तारीखों का ऐलान

पश्चिम बंगाल समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। चुनाव की तारीखों के संबंध में मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि जल्द ही एक साथ चुनाव की तारीखों का ऐलान किया जाएगा। वहीं, चुनावों के संबंध में 23 तारीख को चुनाव आयोग की आतंरिक बैठक होगी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।