पीएम मोदी की पटना रैली में बनाया था हमले का प्लान, जुटाए गए थे खतरनाक हथियार, विस्फोटक, NIA की जांच में PFI को लेकर बड़ा खुलासा

PM Modi
Creative Common
अभिनय आकाश । Sep 24, 2022 12:08PM
ईडी ने गुरुवार को केरल से गिरफ्तार पीएफआई सदस्य शफीक पायेथ के खिलाफ अपने रिमांड नोट में सनसनीखेज दावा करते हुए कहा है कि इस साल 12 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पटना यात्रा के दौरान संगठन ने हमला करने के लिए एक ट्रेनिंग कैंप का आयोजन किया था।

प्रवर्तन निदेशालय ने दावा किया है कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) ने पटना में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली को टारगेट करने की योजना बनाई थी। इसके साथ ही यूपी में संवेदनशील जगहों और व्यक्तियों पर हमले शुरू करने के लिए आतंकवादी मॉड्यूल, घातक हथियारों और विस्फोटकों को जमा किया था। ईडी ने गुरुवार को केरल से गिरफ्तार पीएफआई सदस्य शफीक पायेथ के खिलाफ अपने रिमांड नोट में सनसनीखेज दावा करते हुए कहा है कि इस साल 12 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पटना यात्रा के दौरान संगठन ने हमला करने के लिए एक ट्रेनिंग कैंप का आयोजन किया था। अहम बात ये है कि जुलाई में भी पटना से पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के संदिग्धों की गिरफ्तारी हुई थी। उस वक्त उनसे बरामद दस्तावेजों में इंडिया 2047 नाम से पीएफआई की बुकलेट भी थी, जिसमें 2047 तक भारत को मुस्लिम देश बनाने का आंतकी ब्लूप्रिंट था। 

इसे भी पढ़ें: ISIS जैसे आतंकवादी समूहों के लिए PFI मुस्लिम युवाओं की कर रहा भर्ती, NIA का दावा- भारत में इस्लामी शासन स्थापित करने की रच रहा साजिश

गौरतलब है कि अक्टूबर 2013 में पटना के ही गांधी मैदान में नरेंद्र मोदी की चुनावी रैली में आतंकी हमला हुआ था। तब इंडियन मुजाहिदीन से जुड़े जिहादी आतंकियों ने रैली में विस्फोट किया था। पीएफआई ने पिछले कुछ सालों में 120 करोड़ रुपये सिर्फ इसलिए जुटाए हैं कि वह दंगों और देशभर में आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे सके। इस फंड में ज्यादातर हिस्सा कैश में है। ईडी के पास इसका पूरा डीटेल है। एजेंसी ने गुरुवार को संगठन पर देशव्यापी छापेमारी के बाद चार पीएफआई सदस्यों को गिरफ्तार किया है, जिसके दौरान राष्ट्रीय जांच एजेंसी सहित कई एजेंसियों ने संगठन से जुड़े 100 से अधिक कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है।

अन्य न्यूज़