मध्य प्रदेश में दो करोड़ पात्र परिवारों को आयुष्मान कार्ड

मध्य प्रदेश में दो करोड़ पात्र परिवारों को आयुष्मान कार्ड

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि इंदौर जिले ने सर्वाधिक 8 लाख 87 हजार 647, जबलपुर जिले ने 6 लाख 99 हजार 90 और भोपाल जिले ने 6 लाख 68 हजार 500 पात्र परिवारों के आयुष्मान कार्ड बना कर उल्लेखनीय कार्य किया है।

भोपाल। आयुष्मान भारत निरामयम योजना में प्रदेश ने आज रिकार्ड दो करोड़ आयुष्मान कार्ड बनाने की उल्लेखनीय उपलब्धि प्राप्त की। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कार्ड बनाने के अभियान से जुड़े सभी अधिकारियों, कर्मचारियों को इस उल्लेखनीय उपलब्धि पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि सभी पात्र परिवारों के कार्ड बनने तक अभियान जारी रहेगा।

 

इसे भी पढ़ें: इंदौर में भाजपा के प्रदेश पदाधिकारियों की 30 और 31 को कामकाजी बैठक

मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मंशानुसार, आत्म-निर्भर मध्य प्रदेश के रोड मैप पर बढ़ते हुए आयुष्मान योजना में  दो करोड़ कार्ड बनाने की उल्लेखनीय उपलब्धि विभाग ने प्राप्त की है।  उन्होंने कहा कि  प्रदेश के सभी जिलों में आयुष्मान योजना में पात्रता रखने वाले परिवारों के कार्ड बनाने के अभियान   में उल्लेखनीय योगदान  पर  सभी जिलों के कलेक्टर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को और अन्य अधिकारियों, कर्मचारियों को  बधाई दी।

 

इसे भी पढ़ें: स्व. राजमाता के रास्ते पर चलकर महिलाओं को सशक्त बनाएं, यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि  इंदौर जिले  ने सर्वाधिक  8 लाख 87 हजार 647, जबलपुर जिले ने 6 लाख 99 हजार 90 और भोपाल जिले ने 6 लाख 68 हजार 500   पात्र परिवारों के आयुष्मान कार्ड बना कर  उल्लेखनीय  कार्य किया है। उन्होंने  कहा कि कार्ड बनाने का कार्य नवम्बर 2020 से अभियान के रूप में चलाया जा रहा है। इसके पूर्व  लगभग एक करोड़ 40 लाख कार्ड बनाए गए थे। अभियान अन्तर्गत दो माह 25 दिन में लगभग  60 लाख कार्ड बनाए गए। यह अभियान आगे भी जारी रहेगा। आयुष्मान कार्ड धारकों को योजना में चिन्हित आधुनिक चिकित्सा सुविधाओं से युक्त निजी और शासकीय अस्पतालों में निशुल्क उपचार की सुविधा भी मिल रही।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।