शिवराज सरकार में भांजियाँ कही भी सुरक्षित नहीं - कमलनाथ

  •  दिनेश शुक्ल
  •  जनवरी 23, 2021   23:07
  • Like
शिवराज सरकार में भांजियाँ कही भी सुरक्षित नहीं - कमलनाथ

मृत पीड़िता के परिजन आज प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से उनके निवास पर मिले।उन्होंने इस घटना की सीबीआई जांच की मांग करते हुए परिवार को न्याय व इंसाफ दिलाने की मांग कमलनाथ से की है। जिस पर कमलनाथ ने कहा कि मैं परिवार के साथ हूं ,उनकी हर लड़ाई लडूंगा।

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में प्यारे मियां यौन शोषण की मृतक पीड़ित के परिजनों ने शनिवार को मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से मिलकर उन्हें न्याय दिलवाने की माँग की है। कमलनाथ से मिलने आए मृतिका के परिजनों ने इस पूरे मामले की सीबीआई जाँच की माँग की है। दो दिन पहले यौन शोषण की पीड़ित मृतिका का शव परिजनों को नहीं सौंपते हुए प्रशासन द्वारा शव को सीधे मुक्तिधाम ले जाया गया और अंतिम रीति रिवाज से भी उन्हें वंचित किया गया। हाथरस जैसी अमानवीयता मध्य प्रदेश के भोपाल में भी दोहराई गई।

 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस के राजभवन घेराव पर पुलिस का लाठीचार्ज, बरसाए गए आंसू गैस के गोले

मृत पीड़िता के परिजन आज प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ  से उनके निवास पर मिले।उन्होंने इस घटना की सीबीआई जांच की मांग करते हुए परिवार को न्याय व इंसाफ दिलाने की मांग कमलनाथ से की है। जिस पर कमलनाथ ने कहा कि मैं परिवार के साथ हूं ,उनकी हर लड़ाई लडूंगा। शिवराज सरकार जब से प्रदेश में आई है ,तब से बहन-बेटियों पर अत्याचार की घटनाएं बढ़ गई है ,आज शिवराज सरकार में भांजियाँ कहीं भी सुरक्षित नहीं है। शिवराज सरकार में प्रदेश बहन-बेटियों से दुराचार में देश में शीर्ष पर पहुंच चुका है वो भी उस समय जब ऐसी कई घटनाओं को दबा दिया जाता है।किस मुँह से ये अपने आप को मामा कहते है।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री बोले किसानों की आड़ में विरोधियों का आंदोलन

इस दौरान कमलनाथ ने कहा कि मैं परिजनों की सीबीआई जांच की मांग का समर्थन करता हूं और शिवराज सरकार से मांग करता हूं इस पूरे मामले को देखते हुए और पीड़िता की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत को देखते हुए व अन्य पीड़ित बच्चियों की तबीयत खराब होने को देखते हुए इस पूरे मामले की सीबीआई जांच आवश्यक रूप से होना चाहिए। वही कमलनाथ  ने शराब की दुकानों को लेकर चर्चा के दौरान कहा कि शिवराज सरकार में भले घर-घर तक राशन नहीं पहुंच रहा है, लेकिन शराब जरूर पहुंच रही है। शिवराज सरकार की शराब की दुकानों को बढ़ाने की पूरी तैयारी थी लेकिन विरोध को देखते हुए ये पीछे हट गये। उन्होंने कहा कि शिवराज जी और उमा भारती जी को आपस में बैठकर चर्चा कर यह तय कर लेना चाहिए कि प्रदेश में शराब की दुकानें बढ़े या शराबबंदी हो। इस अवसर पर पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा भी उपस्थित थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


मध्य प्रदेश में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार से हुआ शुरू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 1, 2021   16:02
  • Like
मध्य प्रदेश में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार से हुआ शुरू

मध्यप्रदेश में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार से शुरू हो गया। टीकाकरण के इस चरण के तहत वरिष्ठ नागरिकों और गंभीर बीमारी से पीड़ित 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को टीके की खुराक दी जायेगी।

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार से शुरू हो गया। टीकाकरण के इस चरण के तहत वरिष्ठ नागरिकों और गंभीर बीमारी से पीड़ित 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को टीके की खुराक दी जायेगी। भोपाल के सरकारी गांधी मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) में प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग की उपस्थिति में टीकाकरण की शुरुआत हुई। जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने सोमवार को गांधी मेडिकल कॉलेज के कोविड-19 टीकाकरण केन्द्र में पहुंचकर टीकाकरण अभियान का जायजा लिया।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस महामारी: कश्मीर में करीब एक साल के बाद स्कूल खुले

उन्होंने सुबह पहुंचे वरिष्ठ नागरिक डॉ. मोहन टंकवाल, सरदार कुलवंत सिंह, अंगूरी जैन और डॉ. एन.पी. मिश्रा सहित अन्य को अपनी देख-रेख में टीका लगवाया।’’ टीकाकरण के बाद वरिष्ठ नागरिकों को 30 मिनट तक देखरेख में रखा गया। इस बीच, इन्दौर जिला में भी कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा अभियान शुरू हुआ। यहां टीके की पहली खुराक रवि कुमार जैन (65) को दी गई। जैन ने टीकाकरण के बाद संवाददाताओं से कहा, मैं पूरी तरह ठीक महसूस कर रहा हूं। मैं अपनी पत्नी को टीका लगवाने के लिए सोमवार को ही अस्पताल लेकर आ रहा हूं।

इसे भी पढ़ें: ममता दीदी के कैंपेन का जिम्मा संभाल रहे PK बने कैप्टन के प्रधान सलाहकार

कोविड-19 टीके को लेकर फैली भ्रांतियों को सिरे से खारिज करते हुए जैन ने कहा, बतौर जागरूक नागरिक हमें टीकाकरण को लेकर सरकारी दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए और सभी पात्र लोगों को टीका लगवाना चाहिए। चश्मदीदों ने बताया कि इन अस्पतालों में सोमवार सुबह जुटे कई वरिष्ठ नागरिकों ने बताया कि उन्हें टीकाकरण के लिए ऑनलाइन पंजीयन कराने में समस्या आई। अस्पताल के कुछ कर्मचारी इस पंजीयन में उनकी मदद करते भी देखे गए। प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि मध्यप्रदेश में रविवार को कोविड-19 के 363 नए मामले आये। इससे राज्य में संक्रमितों की संख्या अब तक 2,61,766 हो गयी है और संक्रमण से 3,864 लोगों की मौत हो चुकी है। अधिकारी ने बताया कि रविवार को प्रदेश के कुल 25 जिलों में से 16 जिलों में कोविड-19 का कोई नया मामला सामने नहीं आया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


ममता दीदी के कैंपेन का जिम्मा संभाल रहे PK बने कैप्टन के प्रधान सलाहकार

  •  अभिनय आकाश
  •  मार्च 1, 2021   16:01
  • Like
ममता दीदी के कैंपेन का जिम्मा संभाल रहे PK बने कैप्टन के प्रधान सलाहकार

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रशांत किशोर को अपना प्रधान सलाहकार नियुक्त किया है। जिसकी जानकारी खुद कैप्टन अमरिंदर ने ट्वीट कर दी। अमरिंदर सिंह ने लिखा कि पंजाब के लोगों की भलाई के लिए एक साथ काम करने के लिए तत्पर हैं।

बिहार राजनीति, कूटनीति और अर्थशास्‍त्र के पंडित माने जाने वाले चाणक्‍य की धरती है, जिसने चंद्रगुप्‍त मौर्य को पाटलिपुत्र पर राज करने के तरीकों और राजनीति के रहस्‍यों से रूबरू करवाया था। लेकिन वर्तमान में मगध के एक आधुनिक चाणक्य जिसने बचपन में चाय बेचने वाले नरेंद्र मोदी की चुनावी रणनीति की कमान को संभालते हुए लोकसभा चुनाव 2014 में उनका प्याला वोटों से भर दिया, फिर नीतीश कुमार को 'बिहार में बहार हो नीतेशे कुमार हो' के नारे के साथ फिर से राज्य के सर्वोच्च कुर्सी पर काबिज किया और अमरिंदर सिंह को पंजाब का कैप्टन बना दिया। ममता दीदी के कैंपेन का जिम्मा संभाल रहे राजनीति के पीके से जुड़ी खबर पंजाब से आ गई। 

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रशांत किशोर को अपना प्रधान सलाहकार नियुक्त किया है। जिसकी जानकारी खुद कैप्टन अमरिंदर ने ट्वीट कर दी। अमरिंदर सिंह ने लिखा कि पंजाब के लोगों की भलाई के लिए एक साथ काम करने के लिए तत्पर हैं।

कांग्रेस और प्रशांत किशोर

प्रशांत ने कांग्रेस में यूपी और पंजाब के जिम्मेदारी संभाली। उत्तर प्रदेश में भी किशोर ने बिहार की तर्ज पर अखिलेश यादव और राहुल गांधी का मिलाप अच्छे लड़के के रूप में करवाया। प्रशांत किशोर ने नई चुनावी चाल के तहत ‘अपने लड़के बनाम बाहरी मोदी’ का नारा भी दिया लेकिन यूपी को राहुल और अखिलेश का साथ पसंद नहीं आया और कांग्रेस सात सीटों पर सिमट गई। लेकिन पंजाब में विधानसभा चुनाव 2017 में कांग्रेस की जीत के पीछे अमरिंदर के चेहरे के साथ ही प्रशांत की रणनीति का भी हाथ है जिसने कांग्रेस का तूफान ऐसा उड़ाया कि सभी देखते रह गए। पंजाब चुनाव के बाद प्रशांत किशोर ने एक रिपोर्ट पेश की थी, जिसमें उन्होंने साफ कह दिया था कि पंजाब में कांग्रेस 68 से 70 सीटों पर कब्ज़ा करेगी और सरकार बनाएगी और कांग्रेस ने 77 सीटों पर जीत हासिल की। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


कोरोना वायरस महामारी: कश्मीर में करीब एक साल के बाद स्कूल खुले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 1, 2021   15:59
  • Like
कोरोना वायरस महामारी: कश्मीर में करीब एक साल के बाद स्कूल खुले

कश्मीर में कोरोना वायरस महामारी की वजह से करीब एक साल से बंद स्कूल सोमवार को दोबारा खुल गए। उल्लेखनीय है कि पिछले साल नौ मार्च को आखिरी बार नौवीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थी स्कूल गए थे।

श्रीनगर। कश्मीर में कोरोना वायरस महामारी की वजह से करीब एक साल से बंद स्कूल सोमवार को दोबारा खुल गए। उल्लेखनीय है कि पिछले साल नौ मार्च को आखिरी बार नौवीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थी स्कूल गए थे। प्रशासन ने हालांकि, उन्हीं विद्यार्थियों को स्कूल आने की अनुमति दी है जिनके माता-पिता ने लिखित में इसकी मंजूरी दी है।

इसे भी पढ़ें: ये घरेलू नुस्खे करेंगे आपके हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल, मिलेगा जल्द आराम

अधिकतर निजी स्कूल अभिभावकों से अनापत्ति प्रमाण पत्र ले रहे हैं ताकि प्रबंधन पर स्वास्थ्य संबंधी समस्या उत्पन्न होने पर आरोप नहीं लगे। पहले दिन कई स्कूलों ने विद्यार्थियों को स्वस्थ होने का चिकित्सा प्रमाण पत्र लेकर आने को कहा है। सरकारी आदेश के मुताबिक छठी से आठवीं तक की कक्षाएं आठ मार्च से खुलेंगी जबकि बाकी कक्षाएं 18 मार्च से खुलेंगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept