कर्नाटक में बजरंग दल कार्यकर्ता की हत्या मामले में अब तक 6 आरोपी गिरफ्तार, अन्य 12 से पूछताछ कर रही पुलिस

कर्नाटक में बजरंग दल कार्यकर्ता की हत्या मामले में अब तक 6 आरोपी गिरफ्तार, अन्य 12 से पूछताछ कर रही पुलिस
प्रतिरूप फोटो

शिवमोगा एसपी लक्ष्मी प्रसाद ने बताया कि पीड़ित हर्ष के खिलाफ 2 मामले दर्ज़ थे। एक दंगे से जुड़ा मामला है और दूसरा साल 2016-17 में धार्मिक भावनाओं को आहत करने से संबंधित है। उन्होंने बताया कि हत्या मामले में 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

शिवमोगा। कर्नाटक में शिवमोगा जिले में बजरंग दल के कार्यकर्ता हर्ष की हत्या मामले में पुलिस ने अब तक 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। जबकि अन्य 12 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। शिवमोगा एसपी लक्ष्मी प्रसाद ने बताया कि बजरंग दल के कार्यकर्ता हर्ष की हत्या के मामले में कुल 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 12 से पूछताछ की जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक के बाद वाराणसी पहुंचा हिजाब का मामला, प्रिंसिपल ने कहा ड्रेसकोड सभी के लिए है 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, शिवमोगा एसपी लक्ष्मी प्रसाद ने बताया कि पीड़ित हर्ष के खिलाफ 2 मामले दर्ज़ थे। एक दंगे से जुड़ा मामला है और दूसरा साल 2016-17 में धार्मिक भावनाओं को आहत करने से संबंधित है। उन्होंने बताया कि हत्या मामले में 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। जिनमें मोहम्मद काशिफ, सैयद नदीम, अफसिफुल्ला खान, रेहान शरीफ, निहान और अब्दुल अफनान शामिल है।

दो दिन और बढ़ाया गया कर्फ्यू

शिवमोगा उपायुक्त डॉ सेल्वामणि आर ने बताया कि धारा 144 को दो दिन और बढ़ाकर शुक्रवार सुबह तक कर दिया गया है। स्कूल अगले 2 दिनों के लिए बंद रहेंगे। स्थिति के आधार पर आगे का निर्णय लिया जाएगा। दरअसल, मंगलवार की सुबह तुंगनगर इलाके में हिंसा और आगजनी की छिटपुट घटनाएं हुईं। जिसके बाद कर्फ्यू को आगे बढ़ा दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: हिजाब मामले में कर्नाटक हाई कोर्ट की सुनवाई कल तक के लिए स्थगित, राज्य सरकार ने कहा- सिर्फ कक्षाओं के लिए है प्रतिबंध 

आपको बता दें कि बजरंग दल के कार्यकर्ता हर्ष की हत्या के बाद से शिवमोगा में तनाव का माहौल है। ऐसे में शहर में अतिरिक्त बलों की तैनाती की गई है। एक अधिकारी ने बताया था कि (हत्या के बाद से) शहर में हिंसा और आगजनी की 14 अलग-अलग वारदात हुई जिस पर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।